हुबली. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जनता दल (सेक्युलर) के लोकसभा चुनाव उम्मीदवार प्रज्वल रेवन्ना पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों का जिक्र करते हुए बुधवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) महिलाओं पर अत्याचार करने वालों के साथ नहीं रह सकती.

उन्होंने कर्नाटक की कांग्रेस सरकार पर वोक्कालिगा समुदाय बहुल क्षेत्र में लोकसभा चुनाव होने तक हासन सीट से सांसद प्रज्वल के खिलाफ कार्रवाई न करने का भी आरोप लगाया. प्रज्वल पूर्व प्रधान मंत्री और जद (एस) के संरक्षक एचडी देवेगौड़ा के पोते और पूर्व मंत्री एच.डी. रेवन्ना के बेटे हैं. उन्होंने जद (एस) के टिकट पर इस बार भी हासन से चुनाव लड़ा है.

चुनाव से ठीक पहले, सोशल मीडिया पर बड़ी संख्या में कथित तौर पर प्रज्वल से जुड़ी वीडियो और तस्वीरें वायरल हुईं, जिसके बाद कर्नाटक राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष नागलक्ष्मी चौधरी के अनुरोध पर कर्नाटक सरकार ने एसआईटी का गठन किया. रेवन्ना और प्रज्वल की पूर्व रसोइया और रिश्तेदार की शिकायत पर उनके खिलाफ होलेनारासीपुरा में यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज  किया. पीड़िता ने आरोप लगाया कि प्रज्वल ने उसकी बेटी को वीडियो कॉल कर आपत्तिजनक तरीके से बात की, जिसके कारण बेटी को प्रज्वल को ब्लॉक करना पड़ा.

उन्होंने कहा, ”हमारा (भाजपा) का जद(एस) के साथ गठबंधन है. अब (प्रज्वल) रेवन्ना की सीडी आई है. उसने (कांग्रेस ने) सोचा कि वह भाजपा को घेर सकती है. मैं यहां यह स्पष्ट कर रहा हूं कि भाजपा महिलाओं के खिलाफ अत्याचार करने वालों के साथ नहीं रह सकती.ह्व उन्होंने कहा कि राज्य में कांग्रेस सत्ता में है और उसे कार्रवाई करनी चाहिए थी.

शाह ने जनसभा में कहा, ह्लवोक्कालिगा समुदाय बहुल क्षेत्र में चुनाव खत्म होने तक आपने कोई कार्रवाई नहीं की. आपने राजनीति की और उसे (प्रज्वल रेवन्ना) को भागने दिया. हिम्मत है तो सच बोलिए. आपकी वजह से एक जघन्य अपराधी देश छोड़कर भाग गया.ह्व वोक्कालिगा कर्नाटक के दक्षिणी भाग में प्रमुख समुदाय है और देवेगौड़ा का परिवार इसी समुदाय से संबंध रखता है. समुदाय 14 लोकसभा सीट पर प्रभाव रखता है, जहां 26 अप्रैल को मतदान हुआ था. शेष 14 सीट पर सात मई को मतदान होगा. शाह ने कहा कि भाजपा का रुख स्पष्ट है कि ऐसे अपराध करने वालों को कड़ी सजा दी जानी चाहिए.