सुरेन्द्रनगर. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे पर उनकी भगवान राम और भगवान शिव पर की गई टिप्पणी को लेकर हमला बोला तथा आरोप लगाया कि विपक्षी पार्टी तुष्टीकरण की अपनी राजनीति के कारण हिंदुओं के बीच विभाजन पैदा करने की कोशिश कर रही है.

प्रधानमंत्री ने गुजरात के सुरेंद्रनगर में सुरेंद्रनगर और भावनगर लोकसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवारों के समर्थन में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए यह आरोप भी लगाया कि कांग्रेस ने धर्म के आधार पर आरक्षण देने का प्रस्ताव रखकर संविधान की पीठ में छुरा घोंपा है. उन्होंने दावा किया कि पार्टी ने सरकारी निविदाओं में मुसलमानों के लिए आरक्षण का वादा किया है.

मोदी ने कहा, ”अब कांग्रेस हिंदुओं के बीच विभाजन पैदा करने की कोशिश कर रही है. कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने भगवान राम और भगवान शिव को लेकर बेहद खतरनाक बयान दिया है. यह बयान दुर्भावनापूर्ण इरादे से दिया गया है. वे हिंदू समुदाय को बांटने का खेल खेल रहे हैं.”

उन्होंने कहा, ”वे भगवान राम और शिव भक्तों के बीच भेद पैदा कर रहे हैं ताकि वे एक-दूसरे से लड़ें. यहां तक कि मुगल भी हमारी हजारों साल पुरानी परंपराओं को नहीं तोड़ सके. और अब कांग्रेस इसे तोड़ना चाहती है? तुष्टीकरण के लिए कांग्रेस कितना नीचे गिरेगी?” खरगे ने मंगलवार को छत्तीसगढ. में पार्टी प्रत्याशी शिवकुमार डहरिया के समर्थन में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, ”इनका नाम शिवकुमार है. वह राम के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं क्योंकि वह शिव हैं. मैं मल्लिकार्जुन भी हूं. मैं भी शिव हूं.” मल्लिकार्जुन भगवान शिव का दूसरा नाम है. मोदी ने कहा कि कांग्रेस और उसके समर्थकों ने अयोध्या में राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए भेजे गए निमंत्रण को ठुकरा दिया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा से ऐसी पार्टी रही है जिसने हमेशा ‘गलत’ कदम ही उठाया है.

मोदी ने कहा, ”आजादी के बजाय उन्होंने देश का बंटवारा किया. विकास लाने के बजाय, उन्होंने पहले से मौजूद चीजों को लूट लिया. गरीबों को वापस देने के बजाय, कांग्रेस ने उस पैसे से अपने स्वयं के खजाने को भर दिया. अब कांग्रेस मुसलमानों को आरक्षण देना चाहती है और वह पिछले तीन दशकों से प्रयास कर रही है.” उन्होंने कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र पर मुस्लिम लीग की छाप देखी जा सकती है, लेकिन पार्टी ने एक शब्द भी नहीं बोला है जबकि वह दलितों, जनजातियों और पिछड़े समुदायों के आरक्षण के मुद्दे पर सफाई देने की चुनौती दे रहे हैं.

मोदी ने कहा, ”कांग्रेस नेताओं ने धर्म के आधार पर आरक्षण देने का प्रस्ताव रखकर संविधान की पीठ में छुरा घोंपा है.” उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में सभी सरकारी निविदाओं के आवंटन में अल्पसंख्यकों, विशेष रूप से मुसलमानों के लिए एक अलग कोटा का प्रस्ताव दिया है.

प्रधानमंत्री ने कहा, ”कांग्रेस के घोषणापत्र में आपको कई जगहों पर तुष्टीकरण की राजनीति देखने को मिलेगी. उनके घोषणापत्र में लिखा है कि सभी सरकारी निविदाओं के आवंटन में अल्पसंख्यकों के लिए, मुसलमानों के लिए अलग कोटा होगा. इसलिए अब सरकारी ठेके धर्म के आधार पर दिए जाएंगे और उसके लिए आरक्षण लाया जाएगा.” मोदी ने कहा कि वर्तमान में ऐसी प्रणाली है जो कहती है कि सबसे कम बोली लगाने वाले और जिसके पास क्षमता, विशेषज्ञता व संसाधन हों उसे निविदा प्रक्रिया के जरिये ठेका दिया जाएगा.
उन्होंने कहा, ”सरकारी ठेके जाति या धर्म के आधार पर नहीं दिए जाते. लेकिन कांग्रेस अपने वोट बैंक के लिए ऐसा करना चाहती है.

कांग्रेस हताश, वोट के लिए चला रही ‘झूठ’ और ‘तुष्टीकरण की राजनीति’ का अभियान: भाजपा

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि कांग्रेस लोकसभा चुनाव में वोट हासिल करने के लिए झूठ, दुष्प्रचार और तुष्टीकरण की राजनीति से लबरेज ”हताशा भरा अभियान” चला रही है क्योंकि अतीत में अपने शासन के दौरान बार-बार लोगों के साथ धोखा करने के बाद उसके पास कोई अन्य विकल्प नहीं बचा है.

भाजपा मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले 10 वर्षों में देश को प्रगति के पथ पर अग्रसर किया है और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के शासन के दौरान ”कमजोर पांच अर्थव्यवस्थाओं” में शुमार रहे भारत को अपने नेतृत्व में दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना दिया है.

उन्होंने आरोप लगाया, ”जिस कांग्रेस को लोगों ने सेवा करने के लिए कई मौके दिए, उसने बार-बार उनके भरोसे को धोखा दिया और आज उसके पास झूठ, दुष्प्रचार तथा तुष्टीकरण की राजनीति का अभियान चलाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है.” चंद्रशेखर ने कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा का प्रचार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रदर्शन पर आधारित है जबकि कांग्रेस संप्रग के दस साल के शासन पर कुछ नहीं बोल रही है लेकिन अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग को आरक्षण सहित विभिन्न मुद्दों पर झूठ फैला रही है.