नयी दिल्ली: राष्ट्रमंडल खेलों के पूर्व स्वर्ण पदक विजेता मुक्केबाज और झज्जर पुलिस में सहायक आयुक्त अखिल कुमार ने झज्जर के जवाहरलाल बाग स्टेडियम में बातचीत में उभरते हुए खिलाड़ियों को सलाह दी कि उन्हें नशीली दवाओं के खतरे से बचकर रहना चाहिए।

बींिजग ओलंपिक 2008 के क्वार्टरफाइनल में पहुंचने वाले 43 वर्षीय अखिल ने 2006 में राष्ट्रमंडल खेलों का स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने शुक्रवार को 100 से ज्यादा खिलाड़ियों से बातचीत की जिसमें मुक्केबाज भी शामिल थे।

अखिल ने पीटीआई से कहा, ‘‘बतौर खिलाड़ी और राष्ट्रीय डोंिपग रोधी एजेंसी के पैनल के सदस्य होने के नाते मैं इसके खतरे को समझता हूं। इसलिये मैंने उन्हें सलाह दी कि इससे कैसे दूर रहें। मैंने उन्हें कहा कि नियमित रूप से होने वाले मेडिकल चेक-अप के दौरान भी उन्हें डॉक्टर को बताना चाहिए कि वे एथलीट हैं ताकि वे उन्हें प्रतिबंधित दवाई नहीं लिखें। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘प्रतिबंधित पदार्थों में फंसे युवा सिर्फ अपना करियर ही बर्बाद नहीं कर रहे, बल्कि वे अपने माता-पिता की उम्मीदों को भी खत्म कर रहे है। इसके सेवन से किसी का भी फायदा नहीं हुआ है, इससे सिर्फ पतन ही होता है। ’’ अखिल ने कहा, ‘‘नशीले पदार्थों के सेवन की लत से युवा खुद को नहीं बल्कि अपने परिवार को भी बर्बाद कर रहे हैं। ’’