नयी दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारत पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) पर अपना दावा कभी नहीं छोड़ेगा, लेकिन इसपर बलपूर्वक कब्जा करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी क्योंकि इसके लोग कश्मीर में विकास को देखने के बाद स्वयं इसका (भारत का) हिस्सा बनना चाहेंगे.

सिंह ने ‘पीटीआई-भाषा’ के साथ एक विशेष साक्षात्कार में कहा कि जम्मू-कश्मीर में जमीनी स्थिति में काफी सुधार हुआ है और ऐसा समय आएगा जब इस केंद्र शासित प्रदेश में ‘अफस्पा’ (सशस्त्र बल विशेष शक्तियां अधिनियम) की आवश्यकता नहीं रह जाएगी.
हालांकि, रक्षा मंत्री ने कहा कि यह विषय केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन है और वह उपयुक्त निर्णय लेगा. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में चुनाव भी जरूर होंगे, लेकिन उन्होंने इसके लिए कोई समयसीमा नहीं बताई.

उन्होंने कहा, ”मुझे लगता है कि भारत को कुछ नहीं करना पड़ेगा. जम्मू-कश्मीर में जिस तरह से जमीनी हालात बदले हैं, क्षेत्र में जिस तरह से आर्थिक प्रगति हो रही है और वहां जिस तरह से शांति लौटी है, मुझे लगता है कि पीओके के लोगों की ओर से यह मांग उठेगी कि उनका भारत में विलय होना चाहिए.” उन्होंने कहा, ”हमें पीओके पर कब्जा करने के लिए बल प्रयोग नहीं करना पड़ेगा क्योंकि (वहां के) लोग ही कहेंगे कि हमें भारत में विलय करना चाहिए. ऐसी मांगें अब उठ रही हैं.” रक्षा मंत्री ने जोर देकर कहा, ”पीओके हमारा था, है, और हमारा रहेगा.” जम्मू-कश्मीर में जमीनी हालात में सुधार होने का हवाला देते हुए सिंह ने कहा कि वहां जल्द ही विधानसभा चुनाव होंगे लेकिन उन्होंने इसके लिए कोई समयसीमा नहीं बताई.

संविधान की प्रस्तावना नहीं बदलेगी भाजपा सरकार, आरक्षण रहेगा बरकरार: राजनाथ

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार कभी भी संविधान नहीं बदलेगी और न ही आरक्षण खत्म करेगी. उन्होंने कांग्रेस पर “भय” पैदा करने और “वोट बैंक” की राजनीति के लिए गलत सूचना फैलाने का आरोप लगाया. सिंह ने ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए एक साक्षात्कार के दौरान कांग्रेस पर यह अफवाह फैलाने का आरोप लगाया कि भाजपा सत्ता में रही तो संविधान बदल देगी. उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि संविधान की प्रस्तावना को बदलने का कोई सवाल ही नहीं है.

कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने आरोप लगाया है कि भाजपा अगर सत्ता में रही तो वह संविधान को “फाड़कर फेंक देगी.” कांग्रेस के कुछ अन्य पदाधिकारियों ने आशंका जताई है कि भाजपा संविधान की प्रस्तावना से “धर्मनिरपेक्ष” शब्द हटा सकती है. रक्षा मंत्री ने कहा, “कांग्रेस ने संविधान में 80 बार संशोधन किए. उन्होंने आपातकाल के दौरान प्रस्तावना में बदलाव किया.” सिंह ने कहा, “भाजपा संविधान नहीं बदलेगी. संविधान निर्माताओं ने कभी नहीं सोचा था कि प्रस्तावना में कोई बदलाव होगा. आपने (कांग्रेस) संविधान के मूल विचार को चोट पहुंचाने का काम किया. ” उन्होंने कहा, “संविधान की प्रस्तावना को बदलने का कोई सवाल ही नहीं है. उन्होंने इसे बदल दिया और अब वे हम पर निराधार आरोप लगा रहे हैं.” भारत के संविधान की प्रस्तावना संविधान के सिद्धांतों को प्रस्तुत करती है. साल 1976 में 42वें संशोधन के तहत भारत के परिचय को “संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य” से “संप्रभु समाजवादी धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक गणराज्य” में बदल दिया गया था.

सिंह ने कहा, ”वे (कांग्रेस) नागरिकों में डर पैदा करके लोगों का समर्थन हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं.” उन्होंने कहा, ”मैं सुझाव देना चाहता हूं कि उन्हें विश्वास पैदा करके लोगों का समर्थन हासिल करने की कोशिश करनी चाहिए, न कि डर पैदा करके. चुनावी अभियान तथ्यों पर आधारित होना चाहिए.” शुक्रवार को राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) भारत के लोकतंत्र पर लगातार हमला कर रहे हैं तथा देश के संविधान को “नष्ट” करना चाहते हैं.
रक्षा मंत्री ने कहा, “कांग्रेस भय का माहौल पैदा कर रही है” और “वोट बैंक की राजनीति” के लिए गलत सूचना फैला रही है.

राहुल में कोई ‘आग’ नहीं, लेकिन हिंदू-मुस्लिम विभाजन की कोशिश कर आग से खेल रही है कांग्रेस: राजनाथ
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी में कोई ‘आग’ नहीं है जबकि उनकी पार्टी चुनावी फायदे के लिए हिंदू-मुस्लिम विभाजन की कोशिश कर आग से खेल रही है. सिंह ने ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए एक साक्षात्कार में यह संकेत भी दिया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) लगातार तीसरी बार सत्ता में आने पर समान नागरिक संहिता (यूसीसी) और ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ जैसी बड़ी योजनाओं पर अमल करेगी.

उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें विश्वास है कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) 400 सीटों का आंकड़ा पार करेगा और भाजपा को 370 से अधिक सीट मिलेंगी क्योंकि यह अनुमान जमीनी स्थिति के विस्तृत मूल्यांकन के बाद लगाया गया है. संपूर्ण राजनीतिक परिदृश्य पर बात करते हुए रक्षा मंत्री ने कांग्रेस पर सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने और धार्मिक आधार पर तनाव पैदा करने की कोशिश का आरोप लगाया.

उन्होंने आरोप लगाया, ”वे चुनावी फायदे के लिए हिंदू-मुस्लिम विभाजन का प्रयास कर रहे हैं. कांग्रेस धार्मिक आधार पर तनाव पैदा करने की कोशिश कर रही है.” उन्होंने कहा, ”कांग्रेस सामाजिक सौहार्द बिगाड़ना चाहती है. वे मुस्लिम समुदाय को केवल वोट बैंक के रूप में देखते हैं. मैं उन्हें सुझाव देना चाहता हूं – राजनीति केवल सरकार बनाने के लिए नहीं की जानी चाहिए. राजनीति का उद्देश्य राष्ट्र निर्माण होना चाहिए.” सिंह ने कहा, ”राहुल गांधी में कोई ‘आग’ नहीं है, लेकिन कांग्रेस आग से खेल रही है.”

सेना के एकीकरण को लेकर प्रगति हो रही है : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तीनों सेनाओं के एकीकरण की महत्वाकांक्षी पहल पर पहली बार स्पष्ट टिप्पणियां करते हुए कहा कि सेना में एकीकरण की प्रक्रिया में प्रगति हो रही है और इस पर आम सहमति बन रही है. उन्होंने शनिवार को ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए विशेष साक्षात्कार में कहा कि सशस्त्र बल ‘थिएटराइजेशन’ (एकीकरण) की पहल को लेकर प्रतिबद्ध हैं क्योंकि इससे तीनों सेनाओं की क्षमताओं का एकीकरण होगा और संसाधनों का बेहतर इस्तेमाल सुनिश्चित होगा.

एकीकरण पहल के जरिए सरकार सेना, वायु सेना और नौसेना की क्षमताओं का एकीकरण करना चाहती है और युद्ध एवं अभियानों के दौरान उनके संसाधनों का सर्वोत्तम उपयोग करना चाहती है. रक्षा मंत्री ने कहा, ”एकीकरण की प्रक्रिया शुरू हो गयी है. इस पर प्रगति की गयी है. तीनों सेनाओं के बीच आम सहमति बन रही है क्योंकि इससे संसाधनों का बेहतर इस्तेमाल सुनिश्चित होगा और सेना की समग्र क्षमताएं बढ.ेंगी.” सिंह ने एकीकरण करने के लिए कोई समयसीमा देने से इनकार कर दिया और कहा कि एकीकरण योजना लागू करने वाले कुछ देशों को ऐसा करने में करीब 20 साल लगे थे.

पूर्वी लद्दाख सीमा विवाद पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- अच्छी चल रही है चीन से बातचीत

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत-चीन सैन्य गतिरोध के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि दोनों पक्षों की वार्ता अच्छी चल रही है. उन्होंने लंबे समय से जारी विवाद के समाधान की उम्मीद जताई. सिंह ने शनिवार को ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए एक साक्षात्कार में यह भी कहा कि भारत चीन से लगी सीमा पर तेज गति से बुनियादी ढांचे का विकास कर रहा है. उन्होंने कहा कि देश की सीमाएं सुरक्षित रहेंगी.

उन्होंने वार्ता प्रक्रिया की संवेदनशील प्रकृति को देखते हुए अधिक जानकारी देने से इनकार कर दिया और कहा, ह्लबातचीत अच्छी चल रही है.ह्व यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें सकारात्मक परिणाम और दोनों सेनाओं के बीच लगभग चार साल से जारी तनातनी के खत्म होने की उम्मीद है, इस पर सिंह ने कहा, “अगर कोई उम्मीद नहीं है, तो बातचीत क्यों हो रही है.” उन्होंने कहा, ह्लउन्हें (चीनी पक्ष को) भी उम्मीद है और इसी लिए वार्ताएं हो रही हैं.ह्व भारत और चीन की सेनाओं के बीच मई 2020 से गतिरोध जारी है और सीमा विवाद का पूर्ण समाधान अभी तक नहीं हो पाया है. हालांकि दोनों पक्ष कई विवादित बिंदुओं से पीछे हट गए हैं.

पूर्व पाकिस्तानी मंत्री का राहुल की तारीफ करना चिंताजनक, कांग्रेस स्पष्टीकरण दे : राजनाथ सिंह
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान के पूर्व मंत्री चौधरी फवाद हुसैन का राहुल गांधी की ”तारीफ” करना ”बड़ी चिंता” का विषय है और कांग्रेस को अपने नेता के प्रति ऐसे देश के ”अगाध प्रेम” पर स्पष्टीकरण देना चाहिए जो हमेशा भारत को अस्थिर करने का प्रयास करता है. सिंह ने शनिवार को ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए एक साक्षात्कार में पाकिस्तान से कांग्रेस के संबंध पर भी सवाल उठाया.

उन्होंने कहा, ”एक ऐसे देश से इस अगाध प्रेम के पीछे कोई वजह जरूर होगी जो भारत को अस्थिर करने का प्रयास करता रहा है. यह बड़ी चिंता का विषय है और भारत इस प्यार के पीछे की वजह जानना चाहता है.” चौधरी 2019 में पुलवामा आतंकवादी हमले में पाकिस्तान का हाथ होने का दावा करके चर्चा में आए थे. उन्होंने ”राहुल ऑन फायर” ‘कैप्शन’ से राहुल गांधी के एक भाषण के अंश एक मई को ‘एक्स’ पर पोस्ट किए थे जिसकी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने तीखी आलोचना की थी. रक्षा मंत्री ने कहा, ”अगर एक ऐसे देश का पूर्व मंत्री राहुल की तारीफ करता है जो भारत को अस्थिर करने का प्रयास करता रहा है तो यह चिंता की बात है. कांग्रेस को पाकिस्तान के साथ अपने रिश्ते के बारे में स्पष्टीकरण देना चाहिए.” सिंह ने कहा कि पड़ोसी देश भारतीय चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश कर रहा है.