बेरहामपुर/नबरंगपुर. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को यहां दावा किया कि ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) ‘अस्त’ हो रहा है जबकि विपक्षी कांग्रेस ‘पस्त’ है, लिहाजा लोग भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को लेकर आश्वस्त हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने खुद को भगवान जगन्नाथ का पुत्र बताते हुए कहा कि बीजू जनता दल (बीजद) सरकार की ‘एक्सपायरी डेट’ चार जून है.

राज्य में पहली चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों से ओडिशा को देश का नंबर एक राज्य बनाने के लिए भाजपा को एक मौका देने का आग्रह किया. ओडिशा के आदिवासी बहुल क्षेत्र नबरंगपुर में एक अन्य रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने दावा किया कि उनकी सरकार मूल निवासियों के कल्याण के लिए काम कर रही है.

उन्होंने कहा, ”आपने मोदी के नेतृत्व के दस साल के ट्रैक रिकॉर्ड को देखा है. मोदी ने आदिवासी कल्याण के लिए बजट को पहले के आवंटन की तुलना में पांच गुना बढ़ा दिया.” मोदी ने दावा किया कि केंद्र की सरकार ने आदिवासी इलाकों में ‘एकलव्य मॉडल रेजिडेंशियल’ स्कूल स्थापित किए हैं और ऐसे स्कूलों की संख्या 400 के पार पहुंच गई है. उन्होंने कहा कि उनके मंत्रालय में सात प्रतिशत लोग एसटी, एससी और ओबीसी श्रेणी के हैं. मोदी ने यह भी दावा किया कि ओडिशा को आयुष्मान भारत योजना से कोई फायदा नहीं हुआ क्योंकि बीजद सरकार ने इसे राज्य में लागू नहीं किया.

उन्होंने कहा कि ओडिशा की जनता ने 50 साल तक कांग्रेस के शासन को देखा और पिछले 25 साल से बीजद को देख रही है. मोदी ने लोगों से ओडिशा को देश का नंबर एक राज्य बनाने के लिए भाजपा को एक मौका देने का आग्रह किया. उन्होंने कहा, “सभी ने देखा कि क्या हुआ. ओडिशा की भूमि उर्वरक है, यह खनिज संपदा से संपन्न है. यहां समुद्र तट भी हैं. बेरहामपुर जैसा व्यवसायिक केन्द्र है. यहां संस्कृति और विरासत… क्या नहीं है! फिर भी समृद्ध ओडिशा के लोग गरीब रह गए. इस पाप का कौन जिम्मेदार है? जवाब साफ है- कांग्रेस और बीजद.” उन्होंने कहा, “लेकिन अब ओडिशा में बीजद अस्त है, कांग्रेस पस्त है और लोग भाजपा पर आश्वस्त हैं और सिर्फ भाजपा उम्मीदों का नया सूरज बनकर आई है.” बीजद अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री नवीन पटनायक पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्य को एक ऐसे मुख्यमंत्री की जरूरत है जो उड़िया भाषा और संस्कृति को समझता हो.

उन्होंने कहा, “चुनाव के बाद भाजपा यहां डबल इंजन की सरकार बनाएगी. बीजद सरकार की एक्सपायरी डेट 4 जून, 2024 है. हम ओडिशा को देश का नंबर एक राज्य बनाएंगे.” प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि ओडिशा में बीजद के छोटे-छोटे नेता भी बड़े-बड़े बंगलों के मालिक हो गए हैं, लेकिन चिकित्सकों के बहुत सारे पद खाली पड़े हैं और छात्र अपनी पढ़ाई भी पूरी नहीं कर पा रहे हैं. उन्होंने कहा, “ऐसा क्यों हो रहा है जबकि मोदी राज्य को उपयुक्त और समुचित फंड दे रहा है? जवाब स्पष्ट है.” मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार ने जल जीवन मिशन के लिए 10,000 करोड़ रुपये ओडिशा को दिए लेकिन वह पैसे यहां की सरकार सही से खर्च ही नहीं कर पाई.

उन्होंने कहा, “मोदी गांव में सड़कें बनाने के लिए पैसा भेजता है, लेकिन यहां गांवों में सड़कों की हालत खराब है. मोदी दिल्ली से मुफ्त चावल के लिए पैसे भेजता है, लेकिन बीजद सरकार इस योजना पर भी अपना फोटो चिपका देती है.” प्रधानमंत्री ने बीजद सरकार पर महिलाओं के हितों की कोई परवाह ना करने का आरोप मढ़ा और कहा कि केंद्र सरकार हर गर्भवती महिला को छह हजार रुपये की आर्थिक मदद दे रही है लेकिन राज्य सरकार ने इतनी महत्वपूर्ण और पवित्र योजना पर भी ‘ताला’ लगा दिया है. उन्होंने कहा कि इसी प्रकार आयुष्मान भारत योजना का लाभ भी राज्य के लोगों को नहीं मिल रहा है.

उन्होंने कहा, “हमने ओडिशा के लिए एक दूरदर्शी घोषणापत्र जारी किया जिसमें युवाओं और महिलाओं के लिए नौकरियों और वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं का वादा किया गया है. भाजपा जो कहती है, उसे पूरा करती है.” उन्होंने कहा, ”मैं 10 जून को भाजपा के मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में आपको आमंत्रित करने के लिए यहां आया हूं. उसी दिन हम आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना लागू करेंगे जिसका नवीन पटनायक सरकार विरोध कर रही है. भगवान जगन्नाथ का यह पुत्र इस योजना के तहत सभी वरिष्ठ नागरिकों की देखभाल करेगा.”

ओडिया भाषा पर पटनायक की कथित कमजोर पकड़ का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा, “उड़िया भाषा की संस्कृति और परंपरा में जीने और समझने वाला और गर्व करने वाला व्यक्ति ही ओडिशा की समस्याओं को तेज गति से हल करने में मदद कर सकता है.” उन्होंने लोगों से भाजपा को एक बार राज्य की सेवा करने का मौका देने की अपील की और कहा कि यह मोदी की गारंटी है कि ओडिशा अगले पांच वर्षों में नंबर एक राज्य बन जाएगा. प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि भाजपा ने ओडिशा की बेटी को देश का सर्वोच्च संवैधानिक पद दिया है.

उन्होंने कहा, “यह मेरा सौभाग्य है कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू जी ओडिशा के विकास के लिए हर मिनट मुझसे कहती हैं. मुझे लगता है कि मैं उनके मार्गदर्शन में राज्य के लिए बहुत कुछ कर पाऊंगा.” उन्होंने आरोप लगाया कि छत्तीसगढ़ में धान किसानों को 3,100 रुपये प्रति क्विंटल एमएसपी मिलता है, लेकिन ओडिशा में किसानों को 2,100 रुपये मिलते हैं. मोदी ने हालांकि कहा कि ओडिशा को ”विधानसभा चुनावों के बाद नई ऊर्जा और नया नेतृत्व” मिलेगा.

झारखंड में नकदी जब्त किए जाने का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने यह भी दावा किया कि “भ्रष्टाचार और लूट रोकने के लिए मोदी की आलोचना की जा रही है.” प्रधानमंत्री ने दावा किया कि ओडिशा के लोगों में ताकत और जुनून है, लेकिन बीजद सरकार ने उन्हें सही अवसर नहीं दिया. मोदी के दावे पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजद के वरिष्ठ नेता और नवीन पटनायक के करीबी सहयोगी वीके पांडियन ने कहा, ”पटनायक नौ जून को सुबह साढ़े ग्यारह बजे से दोपहर डेढ़ बजे के बीच लगातार छठी बार ओडिशा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.”