नयी दिल्ली. भारतीय तटरक्षक (आईसीजी) ने मछली पकड़ने वाले एक ईरानी जहाज को केरल के तट के पास पकड़ा जिस पर भारतीय चालक दल छह सदस्य सवार थे. रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को यह जानकारी दी. मंत्रालय ने कहा कि जहाज को आईसीजी द्वारा चलाये गए एक समन्वित अभियान के बाद रविवार को पकड़ा गया. मंत्रालय ने कहा कि चालक दल ने आरोप लगाया कि जहाज के “ईरानी प्रायोजक” ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया और उन्हें रहने की बुनियादी स्थिति से वंचित किया और उनके पासपोर्ट जब्त कर लिए. उसने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि जहाज का मालिक एक ईरानी नागरिक है जिसने तमिलनाडु के भारतीय मछुआरों को अनुबंधित किया था.

मंत्रालय ने कहा, “भारतीय तट रक्षक ने 5 मई की देर रात केरल के तट के पास मछली पकड़ने वाली एक ईरानी नौका को पकड़ा जिस पर भारतीय चालक दल के छह सदस्य सवार थे. समुद्री एवं हवाई समन्वित अभियान में आईसीजी के जहाज और विमान शामिल थे.” इसमें कहा गया, “नाव को रोकने के बाद, आईसीजी की एक टीम जहाज पर चढ़ी और किसी भी राष्ट्र-विरोधी गतिविधि की संलिप्तता का पता लगाने के लिए इसकी गहन जांच की.”

इसमें कहा गया है, “प्रारंभिक जांच से पता चला है कि नाव का मालिक एक ईरानी प्रायोजक है जिसने तमिलनाडु के इन भारतीय मछुआरों को अनुबंधित किया था, और उन्हें ईरान तट के पास मछली पकड़ने के लिए ईरानी वीजा जारी किया था.” आगे की जांच के लिए जहाज को कोच्चि लाया गया. मंत्रालय ने कहा, “चालक दल ने आरोप लगाया कि प्रायोजक ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया और उनके पासपोर्ट जब्त करने के अलावा उन्हें बुनियादी जीवन स्थितियों से वंचित किया. चालक दल ने कहा कि उन्होंने उसी नौका का उपयोग करके ईरान से भारत भागने का फैसला किया था.”