राजमहेंद्रवरम. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि वह इस बारे में कानूनी सलाह ले रहे हैं कि भ्रष्टाचार के जरिए ‘लूटे’ गए पैसों को गरीबों को कैसे लौटाया जाए. झारखंड के एक मंत्री के सचिव से कथित तौर पर जुड़े घरेलू नौकर के परिसर से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा ‘नकदी का ढेर’ जब्त किए जाने का जिक्र करते हुए मोदी ने हैरानी जताई कि ऐसे लोग ‘कांग्रेस के प्रथम परिवार’ के करीबी क्यों हैं.

मोदी ने कहा, “इन्होंने कार्यकर्ताओं के घर को भ्रष्टाचार का गोदाम बना दिया है. यह पहली बार नहीं है, इससे पहले भी (झारखंड में) एक सांसद के यहां से बड़ी जब्ती की गई थी और यह इतना ज्यादा था कि मशीनें भी गिनती करते-करते से थक गई थीं.” प्रधानमंत्री यहां वेमागिरी में एक रैली को संबोधित कर रहे थे. तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) नेता नारा लोकेश और जन सेना प्रमुख पवन कल्याण ने भी इस रैली में हिस्सा लिया.

मोदी ने कहा, “ऐसा क्यों है कि जिन लोगों से नकदी का ढेर बरामद किया गया है, वे कांग्रेस के प्रथम परिवार के करीब हैं? क्या जब्त नकदी कहीं आपूर्ति के लिए थी, क्या कांग्रेस के प्रथम परिवार ने काले धन के गोदाम बनाए हैं? देश कांग्रेस के शहजादे से जानना चाहता है.” मोदी ने आरोप लगाया कि जब भी वह उनका काला धन पकड़ते हैं, तो कांग्रेस और ‘इंडिया’ गठबंधन के लोग उन्हें गाली देते हैं.
उन्होंने कहा कि हालांकि, वह गालियों को लेकर कभी चिंतित नहीं हुए, लेकिन उन गरीबों को लेकर जरूर चिंतित हुए ‘जिनके पैसे इन भ्रष्टाचारियों ने लूट लिए हैं’. अब तक अकेले ईडी ने 1.25 लाख करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है और अगर अन्य (केंद्रीय एजेंसियों) की ओर से जब्त की गई राशि को शामिल किया जाता है तो यह रकम और अधिक हो सकती है.

मोदी ने कहा, “मैं इस बारे में कानूनी सलाह ले रहा हूं कि कैसे पैसा उन लोगों को लौटाया जा सकता है, जिनसे यह लूटा गया है.” उन्होंने कहा कि 17,000 करोड़ रुपये पहले ही सही हकदारों को लौटाए जा चुके हैं. उन्होंने कहा, “किसी गरीब का अधिकार प्रभावित नहीं होगा, यह मोदी की गारंटी है.’ राज्य के दिग्गज अभिनेता-राजनेता एनटी रामाराव को याद करते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने भगवान राम को घर-घर तक पहुंचाया था.

उन्होंने कहा, “हालांकि, तुष्टिकरण के कारण कांग्रेस ने अयोध्या में श्री राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह का बहिष्कार किया और मंदिर का दौरा करने वाले पार्टी नेताओं को संगठन से निकाल रही है.” कांग्रेस और सत्तारूढ. वाईएसआर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने चुनाव में पहले ही हार स्वीकार कर ली है, जबकि वाईएसआर कांग्रेस को लोगों ने पूरी तरह से खारिज कर दिया है. उन्होंने आरोप लगाया कि वाईएसआर कांग्रेस के शासन में भ्रष्टाचार, भूमि और शराब माफिया का शासन सर्वोपरि है.

उन्होंने दावा किया, “एनडीए (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) न केवल लोकसभा चुनाव में रिकॉर्ड बनाएगा, बल्कि आंध्र प्रदेश में भी सरकार बनाएगा.” उन्होंने कहा कि राजग उन सभी राज्यों में सत्ता में आएगा, जहां विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. आंध्र प्रदेश में ‘डबल इंजन’ सरकार की जरूरत पर जोर देते हुए मोदी ने कहा कि वाईएसआर कांग्रेस सरकार ने राज्य में तीन राजधानियां बनाने का वादा किया था, लेकिन एक भी स्थापित नहीं कर सकी.

वाईएसआर कांग्रेस शासन का मजाक उड़ाते हुए उन्होंने कहा, “वे केवल भ्रष्टाचार प्रबंधन कर सकते हैं, वित्तीय प्रबंधन करना वाईएसआर कांग्रेस का काम नहीं है.” पोलावरम परियोजना को आंध्र प्रदेश की जीवन रेखा बताते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने परियोजना के लिए 15,000 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं, लेकिन राज्य सरकार इसे आगे ले जाने में विफल रही और किसान अधर में लटक गए. उन्होंने आरोप लगाया कि विकास के नाम पर राज्य में शून्य काम हुआ, जबकि भ्रष्टाचार 100 फीसदी हो गया.

वाईएसआरसीपी के राज्य में चरणबद्ध तरीके से शराबबंदी के वादे का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, “आज राज्य सरकार खुद शराब के कारोबार और भ्रष्टाचार में लिप्त है.” अनकापल्ली में एक अन्य रैली में मोदी ने कहा कि यह पहला चुनाव है, जो ‘विकसित आंध्र प्रदेश और विकसित भारत’ के भरोसे लड़ा जा रहा है और आज भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया और चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला पहला देश बन गया.

कांग्रेस और वाईएसआर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि पड़ोसी राज्य कर्नाटक में टैंकर माफिया और भू माफिया सरकार चला रहे हैं, जबकि आंध्र प्रदेश में बालू माफिया, भू माफिया, शराब माफिया हावी हैं. तीन साल पहले आंध्र प्रदेश के मंदिरों में तोड़फोड़ की कथित घटनाओं का हवाला देते हुए, मोदी ने आश्वासन दिया कि अगर राजग राज्य में सत्ता में आया, तो राज्य की संस्कृति पर हमलों के पीछे शामिल लोगों पर कार्रवाई की जाएगी.

केंद्र की राजग सरकार के विकास कार्यों को गिनाते हुए मोदी ने कहा कि 2014 तक राज्य में सिर्फ 4,000 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क था और अब यह बढ.कर 9,000 किलोमीटर हो गया है. केंद्र द्वारा राज्य के गरीबों के लिए 24 लाख घरों को मंजूरी दिए जाने का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी की सरकार इनमें से आधे को भी पूरा नहीं कर सकी.

विशाखापत्तनम में मुख्यालय वाले प्रस्तावित रेलवे क्षेत्र पर, मोदी ने दावा किया कि हालांकि केंद्र सरकार ने शहर के लिए एक अलग रेलवे जोन को मंजूरी दी है, लेकिन राज्य सरकार ने अभी तक इसके लिए आवश्यक भूमि आवंटित नहीं की है. उन्होंने कहा, “उनका एकमात्र एजेंडा यह है कि जहां भ्रष्टाचार की कोई गुंजाइश न हो, वहां कोई काम न हो.” उन्होंने भाजपा के घोषणापत्र में विभिन्न वर्गों के लिए उल्लिखित विभिन्न प्रस्तावों पर प्रकाश डाला. गौरतलब है कि मोदी ने दोनों जनसभाओं में मुस्लिम आरक्षण पर एक शब्द नहीं बोला. आंध्र प्रदेश में 25 लोकसभा सीट और 175 विधानसभा सीट के लिए 13 मई को चुनाव होंगे.