नयी दिल्ली/मुंबई/धार. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को आरोप लगाया कि मुस्लिम आरक्षण पर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद की टिप्पणी से यह स्पष्ट हो गया है कि सत्ता में आने पर विपक्षी गठबंधन ‘इंडिया’ संविधान के मौलिक ढांचे में बदलाव करके अल्पसंख्यक समुदाय को आरक्षण प्रदान करेगा. विपक्षी गठबंधन ‘इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इन्क्लूसिव अलायंस’ (‘इंडिया’) के खिलाफ भाजपा का आरोप राजद अध्यक्ष के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि वह मुसलमानों को आरक्षण का लाभ देने के पक्ष में हैं.

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने यहां पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ”लालू प्रसाद यादव ने कहा कि मुसलमानों को पूर्ण आरक्षण दिया जाना चाहिए. उनके द्वारा अपने वक्तव्य में प्रयुक्त यह शब्द ‘पूरा का पूरा’ बहुत गंभीर है. इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि वे (इंडिया गठबंधन) एससी, एसटी और ओबीसी के हिस्से से मुसलमानों को आरक्षण प्रदान करना चाहते हैं.” उन्होंने दावा किया कि अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी) और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के हिस्से से मुसलमानों को आरक्षण देने के लिए संविधान में बदलाव की योजना के बारे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा द्वारा जताया जा रहा संदेह प्रसाद के बयान से सही साबित होता है.

त्रिवेदी ने कहा, ”इससे एक बात और स्पष्ट हो जाती है कि राजद के लिए मुसलमान पहले और यादव बाद में हैं.” भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि संविधान में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है कि धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं दिया जा सकता. उन्होंने कहा, ”वे मुसलमानों को आरक्षण प्रदान करने के लिए संविधान के मौलिक ढांचे को बदलना चाहते हैं.” उन्होंने कहा, ”कांग्रेस के राहुल गांधी सहित इंडिया गठबंधन के कई अन्य नेता सत्ता में आने पर मुसलमानों को आरक्षण देने की बात कर रहे हैं.”

मुसलमानों को आरक्षण देने संबंधी लालू का बयान मंडल आयोग की भावना का उल्लंघन : जद (यू) नेता त्यागी

मुसलमानों को आरक्षण देने के पक्ष में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू यादव के बयान की आलोचना करते हुए जनता दल (यूनाइटेड) ने मंगलवार को कहा कि उनका रुख संविधान की मूल भावना के साथ-साथ मंडल आयोग की रिपोर्ट का भी उल्लंघन है. जद (यू) प्रवक्ता के. सी. त्यागी ने कहा कि इस तरह का बयान सामाजिक और शैक्षिक पिछड़ेपन के आधार पर आरक्षण का लाभ ले रहे पिछड़े वर्गों के खिलाफ साजिश के समान है.

उन्होंने कहा, ”प्रसाद का बयान निंदनीय है.” इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री प्रसाद जैसे शख्स जो मंडल आयोग की रिपोर्ट को लागू करने के लिए आंदोलन का हिस्सा रहे, ऐसा बयान दे रहे हैं. त्यागी ने कहा कि आयोग ने हिंदुओं के साथ-साथ मुसलमानों के सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षण की सिफारिश की थी. उन्होंने इस बात पर बल दिया कि आरक्षण का लाभ देने के लिए धर्म कभी भी मानदंड नहीं हो सकता.

मतदाता तय करेंगे कि क्या पाकिस्तान को खुश करने वाले नेता को जीतना चाहिए : भाजपा

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को कहा कि इस लोकसभा चुनाव में मतदाता तय करेंगे कि पाकिस्तान को खुश करने वाले नेता को विजयी होना चाहिए या भारत को मजबूत बनाने वाले नेता को सत्ता में आना चाहिए. भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विनोद तावड़े का बयान ऐसे समय आया है जब लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में 11 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 93 लोकसभा सीटों पर मतदान जारी है.

तावड़े ने यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा, ”फारूक अब्दुल्ला, लालू प्रसाद और अन्य की ओर से आ रहे बयानों के मद्देनजर, देश के लोग स्वाभाविक रूप से वोट डालते समय सोचेंगे कि पाकिस्तान को खुश करने वाले नेता को जीतना चाहिए या भारत को मजबूत बनाने वाले नेता को जीतना चाहिए.” इससे पहले राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष प्रसाद ने कहा कि वह मुसलमानों को आरक्षण का लाभ देने के पक्ष में हैं. उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि भाजपा संविधान को निरस्त कर आरक्षण को खत्म करना चाहती है.

पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं वड्डेटीवार : फडणवीस ने करकरे पर कांग्रेस नेता की टिप्पणी को लेकर कहा

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार को कांग्रेस नेता विजय वड्डेटीवार पर पाकिस्तान की भाषा बोलने का आरोप लगाया. फडणवीस का यह बयान वड्डेटीवार के इस आरोप के कुछ दिन बाद आया है, जिसमें कांग्रेस नेता ने कहा था कि आतंक रोधी दस्ता (एटीएस) के तत्कालीन प्रमुख हेमंत करकरे की आतंकवादी अजमल कसाब ने नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध एक पुलिसकर्मी ने हत्या की थी.

उप मुख्यमंत्री ने वड्डेटीवार की टिप्पणी पर शिवसेना (यूबीटी) प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की चुप्पी पर भी सवाल उठाया.
राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता वड्डेटीवार ने हाल में दावा किया था कि 26 नवंबर 2008 को हुए (26/11) मुंबई हमलों के दौरान महाराष्ट्र एटीएस प्रमुख रहे करकरे की मौत कसाब की गोली से नहीं, बल्कि आरएसएस से संबद्ध एक पुलिसकर्मी द्वारा चलाई गई गोली से हुई थी. कांग्रेस नेता ने मुंबई उत्तर-मध्य से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार उज्ज्वल निकम पर प्रहार करते हुए यह बयान दिया था. निकम, हमलों की सुनवाई में सरकारी वकील थे.

फडणवीस ने आरोप लगाया, ”वड्डेटीवार यह कहकर पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं कि हेमंत करकरे की अजमल कसाब ने हत्या नहीं की थी…पूरा देश उज्ज्वल निकम के साथ था, जबकि कांग्रेस आतंकवादी अजमल कसाब के साथ थी.” देश के तानाशाही की ओर बढ.ने के कांग्रेस के आरोप पर, फडणवीस ने कहा कि देश ने 1975 में तानाशाही देखी थी जब समूचे विपक्ष को दो साल के लिए जेल में डाल दिया गया था.

लालू की टिप्पणी पर मोदी ने कहा: ‘इंडिया’ गुट वोट बैंक के लिए एससी,एसटी आरक्षण खत्म करना चाहता है

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पर मुसलमानों को आरक्षण लाभ की उनकी टिप्पणी को लेकर निशाना साधा और कहा कि ‘इंडी’ गठबंधन एक गहरी साजिश के तहत एससी, एसटी और ओबीसी के सभी कोटा छीनकर अपने “वोट बैंक” को देना चाहता है. यादव के इस बयान से कि वह मुसलमानों को आरक्षण का लाभ देने के पक्ष में हैं, राजनीतिक घमासान शुरू हो गया है.

मध्य प्रदेश के धार में एक रैली में मोदी ने ‘इंडिया’ गठबंधन के घटक राजद के नेता लालू प्रसाद पर निशाना साधते हुए कहा , ” उनके नेता, जो जानवरों का चारा खा गए और भ्रष्टाचार के मामले में उच्चतम न्यायालय से भी दोषी ठहराए गए हैं और स्वास्थ्य कारणों से जमानत पर हैं, उन्हें कांग्रेस अपने सिर पर नचा रही है.” उन्होंने कहा, ” वह कह रहे हैं कि मुसलमानों को ही आरक्षण नहीं मिलना चाहिए बल्कि सारा आरक्षण मुसलमानों को मिलना चाहिए.” मोदी ने कहा कि इसका मतलब है कि वे एससी, एसटी और ओबीसी से सारा आरक्षण छीनकर मुसलमानों को देना चाहते हैं.

उन्होंने कहा कि आख.रि ये लोग ऐसा क्यों कर रहे हैं क्योंकि ये इसी वोट बैंक के सहारे अपनी बची हुई सांसें गिन रहे हैं क्योंकि बाकी सब कुछ ख.त्म हो चुका है और इनके पास कुछ भी नहीं बचा है, “एक-एक करके सभी छोड़ कर भाग गए हैं”. उन्होंने कहा, ह्लमैं कह रहा था कि वे आरक्षण का कुछ हिस्सा काट देंगे और इसे धर्म के आधार पर देंगे लेकिन साजिश गहरी है. वे मतदान के दिन कह रहे हैं कि वे एससी, एसटी और ओबीसी का सारा आरक्षण मुस्लिम समुदाय को देना चाहते हैं.”

मोदी ने सवाल किया, “क्या आप कांग्रेस और उसके सहयोगियों के इस खेल को स्वीकार करते हैं? ऐसे लोगों को अपनी जमानत खोनी चाहिए या नहीं?” उन्होंने कहा कि आंबेडकर ने धर्म आधारित आरक्षण का विरोध किया था. उन्होंने कहा, “क्या ऐसे लोगों को हमेशा के लिए राजनीति से दूर रखा जाना चाहिए या नहीं? यह बी आर आंबेडकर को सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी. जब कांग्रेस केंद्र में सत्ता में नहीं थी तब आंबेडकर को भारत रत्न दिया गया था.”