अहमदनगर/बीड/खरगोन. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि कांग्रेस ने मुंबई में 26/11 के आतंकवादी हमलों के दौरान शहीद हुए सुरक्षार्किमयों और लोगों का अपमान किया है. उनकी यह टिप्पणी कांग्रेस नेता विजय वडेट्टीवार की उस टिप्पणी की पृष्ठभूमि में आई है जिसमें उन्होंने कहा था कि तत्कालीन एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे को पाकिस्तानी आतंकवादी अजमल कसाब ने नहीं मारा था.

मतदाताओं से यह सुनिश्चित करने का अनुरोध करते हुए कि महाराष्ट्र में कांग्रेस एक भी लोकसभा सीट न जीते, उन्होंने अहमदनगर जिले में एक चुनावी रैली में दावा किया कि चार जून (मतगणना तिथि) विपक्षी ‘इंडिया’ गठबंधन की ‘एक्सपायरी डेट’ होगी. अहमदनगर में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उम्मीदवार सुजय विखे पाटिल (भाजपा) और शिरडी में सदाशिव लोखंडे (शिवसेना) के लिए एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने दावा किया कि विपक्षी पार्टी की ‘ए टीम हार रही है (लोकसभा चुनावों में) इसलिए सीमा पार से ‘बी’ टीम सक्रिय हो गई है और इससे कांग्रेस का हौसला बढ़ रहा है.

प्रधानमंत्री का इशारा पाकिस्तान के एक नेता द्वारा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की तारीफ की ओर था. मोदी ने कहा, ”यहां कांग्रेस आतंकवादियों को क्लीन चिट दे रही है जबकि पड़ोसी देश तक ने अपने नागरिकों की भूमिका (26/11 हमलों में) स्वीकार कर ली है. कांग्रेस देश को कहां ले जाना चाहती है? तुष्टिकरण के लिए वह इस स्तर तक गिर गई है.” नवंबर 2008 में 26/11 हमलों के बाद जीवित पकड़े गए एकमात्र पाकिस्तानी आतंकवादी कसाब को 21 नवंबर 2012 को पुणे के यरवदा केंद्रीय कारागार में फांसी पर लटका दिया गया था.

राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता वड्डेटीवार ने हाल में दावा किया था कि 26 नवंबर 2008 को हुए (26/11) मुंबई हमलों के दौरान महाराष्ट्र एटीएस प्रमुख रहे करकरे की मौत कसाब की गोली से नहीं, बल्कि आरएसएस से संबद्ध एक पुलिसकर्मी द्वारा चलाई गई गोली से हुई थी.

कांग्रेस नेता ने मुंबई उत्तर-मध्य से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार उज्ज्वल निकम पर प्रहार करते हुए यह बयान दिया था. निकम, हमलों की सुनवाई में सरकारी वकील थे. प्रधानमंत्री ने रैली में मौजूद लोगों से पूछा, ”क्या कांग्रेस को यहां (महाराष्ट्र में) एक भी सीट जीतनी चाहिए?” इस सवाल पर वहां मौजूद लोगों ने ‘ना’ में जवाब दिया.

भाजपा के स्टार प्रचारक ने कहा कि किसानों के कल्याण के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा और विकास ‘मोदी की गारंटी’ हैं. कांग्रेस के घोषणापत्र में मुस्लिम लीग की छाप होने की बात दोहराते हुए मोदी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) का घोषणापत्र विकास, गरीबों के कल्याण, राष्ट्रीय सुरक्षा और देश के आत्मसम्मान को बनाए रखने के बारे में है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी के गरीबी उन्मूलन के नारे झूठे साबित हुए हैं.

मोदी ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद की मुसलमानों को आरक्षण के बारे में टिप्पणी का जिक्र किया और कहा कि विपक्षी गठबंधन खतरनाक खेल खेल रहा है. उन्होंने दावा किया कि विपक्ष अनुसचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग का आरक्षण छीनकर मुसलमानों को देने की योजना बना रहा है. उन्होंने कहा, ”संविधान धर्म आधारित आरक्षण की अनुमति नहीं देता है लेकिन इंडिया गठबंधन संविधान को बदलना चाहता है.” अहमदनगर और शिरडी लोकसभा सीट पर 13 मई को मतदान होगा.

सत्ता में आने पर शाह बानो मामले की तरह कांग्रेस राम मंदिर पर शीर्ष अदालत के फैसले को पलट देगी: मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को दावा किया कि अगर कांग्रेस सत्ता में आई, तो वह राम मंदिर पर उच्चतम न्यायालय के फैसले को उसी तरह पलट देगी, जैसे 1985 में शाह बानो मामले में अदालत के ऐतिहासिक फैसले को राजीव गांधी के नेतृत्व वाली तत्कालीन सरकार ने पार्टी की तुष्टिकरण की राजनीति के तहत पलट दिया था.

मोदी ने कहा कि हाल ही में पार्टी छोड़ने वाले एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने खुलासा किया है कि ‘शहजादा’ (सांसद राहुल गांधी की ओर इशारा करते हुए) ने राम मंदिर मामले में 2019 के उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद चुनिंदा लोगों की बैठक बुलाई और कहा कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में वापस आती है तो शीर्ष अदालत का फैसला उसी तरह पलट दिया जाएगा जैसे उनके पिता (तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी) ने शाह बानो मामले में किया था.

साल 1985 में, उच्चतम न्यायालय ने इंदौर की एक मुस्लिम महिला शाह बानो के पक्ष में फैसला सुनाया था, जिन्होंने तलाक के बाद अपने पति से गुजारा भत्ते की मांग की थी. लेकिन तत्कालीन राजीव गांधी सरकार ने एक अधिनियम के माध्यम से फैसले को पलट दिया था. नवंबर 2019 में, शीर्ष अदालत की पांच-न्यायाधीशों की पीठ ने अयोध्या में एक दशक पुराने भूमि विवाद को समाप्त करते हुए राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया था. मोदी मध्य महाराष्ट्र के बीड जिले के अंबेजोगाई में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उम्मीदवार पंकजा मुंडे के पक्ष में एक चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे.

लोगों को तय करना होगा कि देश ‘वोट जिहाद’ से चलेगा या ‘राम राज्य’ से : प्रधानमंत्री मोदी
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि देश इतिहास के एक अहम मोड़ पर पहुंच गया है और लोगों को यह तय करना होगा कि देश ‘वोट जिहाद’ से चलेगा या ‘राम राज्य’ से. मध्य प्रदेश के खरगोन में एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने विपक्षी कांग्रेस पर भी निशाना साधा और कहा कि उसकी मंशा बहुत खतरनाक है और वह मोदी के खिलाफ “वोट जिहाद” का आह्वान करती है.

उन्होंने कहा, “भारत इतिहास के एक महत्वपूर्ण मोड़ पर है; आपको यह तय करना होगा कि देश वोट जिहाद से चलेगा या राम राज्य से.” मोदी ने कहा, “विपक्ष के ‘इंडी’ गठबंधन के सहयोगियों को जनता के भाग्य की चिंता नहीं है… वे अपने परिवार को बचाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं.” उन्होंने कहा कि विपक्षी गठबंधन के सहयोगियों के लिए उनकी “विरासत” देश से अधिक महत्वपूर्ण है और वे अपनी सत्ता बचाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं.

प्रधानमंत्री ने लोगों से पूछा कि क्या उन्होंने लोकप्रिय कहावत “अपना काम बनता…” सुनी है? इस पर सभा में उपस्थित लोगों ने कहा “भाड़ में जाए जनता.” मोदी ने कहा, “पाकिस्तान में आतंकवादी भारत के खिलाफ जिहाद की धमकी दे रहे हैं और इधर, कांग्रेस के लोगों ने भी मोदी के खिलाफ वोट जिहाद करने की घोषणा की है… इसका मतलब है कि एक विशेष धर्म के लोगों को मोदी के खिलाफ एकजुट होकर वोट करने के लिए कहा जा रहा है. कल्पना कीजिए, कि कांग्रेस किस स्तर तक गिर गई है.” प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के इरादे भयानक हैं और उसकी साजिशें खतरनाक हैं.