इस्लामाबाद. तालिबान ने पाकिस्तान में हाल के हमलों में अफगान की संलिप्तता के दावे को बुधवार को खारिज करते हुए इसे ‘गैर जिम्मेदाराना एवं सच्चाई से परे’ बताया. पाकिस्तान की सेना ने मंगलवार को कहा था कि मार्च में जिस आत्मघाती बम हमले में पांच चीनी अभियंताओं एवं एक पाकिस्तानी चालक की मौत हुई थी, उस हमले की साजिश पड़ोसी देश अफगानिस्तान में रची गयी थी और बम हमलावर एक अफगान नागरिक था. पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल अहमद शरीफ ने कहा है कि खैबर पख्तूनख्वा के बिशम जिले में 26 मार्च को हुए हमले के सिलसिले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

तालिबान के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इनायतुल्लाह खावराजमी ने बुधवार को एक बयान में कहा, ”ऐसी घटनाओं के लिए अफगानिस्तान पर ठीकरा फोड़ना विषय की सच्चाई से ध्यान बांटने की विफल कोशिश है तथा हम इसका जोरदार खंडन करते हैं.” खावराजमी ने कहा, ”पाकिस्तानी सेना की कड़ी सुरक्षा वाले खैबर पख्तूनख्वा के एक क्षेत्र में चीनी नागरिकों की हत्या पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों की कमजोरी को दर्शाती है.” उन्होंने कहा कि इस्लामी अमीरात (अफगानिस्तान) ने चीन को आश्वासन दिया है कि (इस हमले में)अफगान शामिल नहीं हैं.

शरीफ ने कहा था कि अफगान तालिबान ने सत्ता में आने से पहले अंतरराष्ट्रीय समुदाय से जो वादा किया था कि किसी को भी किसी अन्य देश के खिलाफ अफगान सरजमीं का इस्तेमाल नहीं करने दिया जाएगा, उस वादे पर वे खरा नहीं उतर पाये हैं. खावराजमी ने पलटवार करते हुए कहा कि अफगानिस्तान के पास पाकिस्तान से ‘इस्लामिक स्टेट’ के सदस्यों के अफगानिस्तान आने के सबूत हैं और ‘पाकिस्तान की सरजमीं का हमारे खिलाफ इस्तेमाल किया जा रहा है, जिसके लिए पाकिस्तान को जवाब देना चाहिए.”