हैदराबाद. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बृहस्पतिवार को कहा कि 2024 का चुनाव राहुल गांधी बनाम नरेन्द्र मोदी है और इसमें मुकाबला विकास के लिए वोट और ‘जिहाद के लिए वोट’ के बीच है. तेलंगाना के भोनगीर लोकसभा क्षेत्र में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि चुनाव प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘भारतीय गारंटी’ और राहुल गांधी की ‘चीनी गारंटी’ के बीच हैं.

कांग्रेस, भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) को ‘तुष्टीकरण की तिकड़ी’ बताते हुए शाह ने कहा कि ये दल राम नवमी जुलूस नहीं निकालने देते और संशोधित नागरिकता अधिनियम (सीएए) का विरोध भी करते हैं.

उन्होंने कहा, ”ये लोग हैदराबाद मुक्ति दिवस (17 सितंबर) नहीं मनाने देते. ये लोग सीएए का विरोध करते हैं. ये लोग तेलंगाना को शरिया और कुरान के आधार पर चलाना चाहते हैं.” शाह ने दावा किया कि लोकसभा चुनाव के अब तक हुए पहले तीन चरणों में भाजपा को करीब 200 सीटों पर जीत मिलेगी और पार्टी को 400 सीट के लक्ष्य को पार कराने में मदद के लिए तेलंगाना को वोट देना होगा.
उन्होंने कहा कि भाजपा ने 2019 में तेलंगाना की 17 में से चार लोकसभा सीट पर जीत हासिल की थी. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ए. रेवंत रेड्डी को समझ लेना चाहिए कि भाजपा इस चुनाव में 10 सीट से ज्यादा पर विजय सुनिश्चित करेगी. उन्होंने कहा कि तेलंगाना में दोहरे अंकों में सीट की संख्या प्रधानमंत्री मोदी को 400 सीट के पार ले जाएगी.

भाजपा पर संविधान बदलने और आरक्षण समाप्त करने के कांग्रेस के आरोपों का जिक्र करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस झूठ के सहारे चुनाव लड़ना चाहती है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस कहती है कि मोदी आरक्षण समाप्त कर देंगे लेकिन उन्होंने पिछले 10 साल में पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में रहते हुए ऐसा कुछ नहीं किया. शाह ने आरोप लगाया कि तेलंगाना में हालांकि कांग्रेस ने मुसलमानों को चार प्रतिशत आरक्षण देकर अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी) और अन्य पिछड़े वर्गों (ओबीसी) के आरक्षण में सेंध लगाई.

उन्होंने कहा कि भाजपा सत्ता में आई तो मुस्लिम आरक्षण को समाप्त कर देगी और एससी, एसटी और ओबीसी आरक्षण बढ़ाएगी.
शाह ने कहा, ”मोदी जो कहते हैं, वो करते हैं. राहुल बाबा की गारंटी सूरज डूबने तक भी नहीं चलती.” उन्होंने कहा कि तेलंगाना विधानसभा चुनाव के समय राहुल गांधी ने दो लाख रुपये का कृषि ऋण माफ करने, किसानों को हर साल 15,000 रुपये, कृषि श्रमिकों को 12,000 रुपये सालाना, धान किसानों को एमएसपी पर 500 रुपये का बोनस, छात्रों को बिना गारंटी के पांच लाख रुपये का ऋण देने का वादा किया था.

शाह ने कहा, कांग्रेस नेता ने कॉलेज जाने वाली लड़कियों को ‘स्कूटी’ और हर तहसील में अंतरराष्ट्रीय स्कूल खोलने का वादा भी किया था, लेकिन इन सब को लागू नहीं किया गया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 70 साल तक राम मंदिर निर्माण रोका, लेकिन मोदी ने न्यायालय में मामले में जीत के साथ केवल पांच साल में ‘भूमि पूजन’ किया और बाद में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में भी भाग लिया.

शाह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा था कि राजस्थान और तेलंगाना के लोगों का कश्मीर से कोई लेनादेना नहीं है, लेकिन भोनगीर के लोग कश्मीर के लिए अपनी जान न्योछावर करने को तैयार रहेंगे. शाह ने आरोप लगाया कि एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी, बीआरएस और कांग्रेस ‘तुष्टीकरण के एबीसी’ हैं. उन्होंने कहा कि मोदी ने तीन तलाक समाप्त किया, लेकिन कांग्रेस, बीआरएस और एआईएमआईएम इसे वापस लाना चाहते हैं. शाह ने कहा कि इन दलों ने राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह का भी बहिष्कार किया था. उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी ने तेलंगाना को ‘कांग्रेस का एटीएम’ बना दिया है.