बेंगलुरु. भारत का सबसे बड़ा बहुभाषी और किफायती स्वदेशी जेनरेटिव कृत्रिम बुद्धिमत्ता (जेनएआई) मंच ‘हनुमान’ शुक्रवार को पेश किया गया. यह 12 भारतीय भाषाओं सहित 98 वैश्विक भाषाओं में उपलब्ध है. ये 12 भारतीय भाषाएं हिंदी, मराठी, गुजराती, बंगाली, कन्नड़, ओडिया, पंजाबी, असमिया, तमिल, तेलुगु, मलयालम और सिंधी हैं. इसके अलावा, ‘हनुमान’ मंच अंग्रेजी, स्पेनिश, इतालवी, जर्मन, जापानी, कोरियाई जैसी 80 अन्य भाषाओं का समर्थन करेगा.

इस एआई टूल को जेनरेटिव एआई कंपनी एसएमएल इंडिया ने अबू धाबी स्थित निवेश कंपनी 3एआई होल्डिंग के साथ साझेदारी में विकसित किया है. यह ऐप अब भारत में डाउनलोड के लिए उपलब्ध है. इसे एंड्रॉयड उपयोगकर्ताओं प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं. आईओएस उपयोगकर्ताओं के लिए यह जल्द ही ऐप स्टोर पर उपलब्ध होगा.

एसएमएल इंडिया के सह-संस्थापक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी विष्णु वर्धन ने कहा, ”भारत में एआई नवाचार के एक नए युग का ‘हनुमान’ प्रतिनिधित्व करता है. हमारा लक्ष्य एक साल में 20 लाख उपयोगकर्ताओं को इससे फायदा पहुंचाना है.” उन्होंने कहा कि 80 प्रतिशत भारतीयों को अंग्रेजी ठीक से समझ नहीं आती है. इसी बात को ध्यान में रखते हुए ‘हनुमान’ भारतीय भाषाओं का भी समर्थन करता है. इस मौके पर ‘3एआई होल्डिंग’ के प्रबंध निदेशक अर्जुन प्रसाद ने कहा कि ‘हनुमान’ मंच यह सुनिश्चित करेगा कि एआई केवल कुछ लोगों का विशेषाधिकार न रहे, बल्कि हर भारतीय के लिए सुलभ उपकरण बने.