कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस ने शुक्रवार को कहा कि वह राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष रेखा शर्मा के खिलाफ ”अपने पद के दुरुपयोग” और ”संदेशखाली मामले के प्रमुख साजिशकर्ताओं में से एक होने” को लेकर चुनाव आयोग (ईसी) में उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराएगी. पार्टी ने कहा है कि कई महिलाओं ने आरोप लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने उन्हें धोखा देकर तृणमूल नेताओं के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायतें दर्ज कराई. एनसीडब्ल्यू ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से सिफारिश की थी कि संदेशखाली में महिलाओं पर कथित हिंसा और अत्याचार को लेकर पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाया जाए.

पश्चिम बंगाल के मंत्री और पार्टी प्रवक्ता शशि पांजा ने शर्मा के खिलाफ चुनाव आयोग का रुख करने की तृणमूल की इच्छा को शुक्रवार को रेखांकित किया. पांजा ने आरोप लगाया कि एनसीडब्ल्यू अध्यक्ष ने संदेशखाली से जुड़े आरोपों को लेकर ‘राजनीतिक पूर्वाग्रह’ के तहत कार्य किया और ”क्षेत्र की महिलाओं को यौन अत्याचार के झूठे आरोप लगाने को लेकर प्रोत्साहित किया.”

संदेशखाली घटना भाजपा की बंगाल को बदनाम करने की साजिश : अभिषेक बनर्जी
तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने शुक्रवार को भाजपा पर पश्चिम बंगाल को बदनाम करने के लिए संदेशखाली मामले में “साजिश रचने” का आरोप लगाया. उन्होंने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी ने महिलाओं से कोरे कागज पर हस्ताक्षर कराए और फिर संदेशखाली में उन पर यौन अत्याचार का आरोप लगाते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग को शिकायतें भेजी गईं.

संदेशखाली मुद्दे को लेकर भाजपा पर निशाना साधते हुए बनर्जी ने इसे “बंगाल को बदनाम करने की आजादी के बाद की एक बड़ी साजिश” करार दिया. इससे पहले तृणमूल ने कहा था कि वह एनसीडब्ल्यू अध्यक्ष रेखा शर्मा के खिलाफ “संदेशखाली मामले के प्रमुख साजिशकर्ताओं में से एक होने” के लिए निर्वाचन आयोग के समक्ष शिकायत दर्ज करेगी.

बनर्जी डायमंड हार्बर निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा चुनाव के लिए अपना नामांकन दाखिल करने के बाद संवाददाताओं से बात कर रहे थे. तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव ने सवाल किया कि क्या संदेशखाली में महिलाओं पर यौन अत्याचार के आरोपों की कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश पर जांच कर रही सीबीआई कथित वीडियो में कुछ महिलाओं के बयानों की जांच करेगी, जो उनकी पार्टी द्वारा साझा किए गए थे.

उन्होंने दावा किया कि बशीरहाट लोकसभा सीट, जिसके अंतर्गत संदेशखाली स्थित है, से “प्रधानमंत्री द्वारा उम्मीदवार बनाई गईं” रेखा पात्रा ने एक कथित वीडियो में उन महिलाओं की पहचान पर सवाल उठाया है, जिन्हें भाजपा राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मिलाने के लिए दिल्ली ले गई थी. बनर्जी ने कथित वीडियो का हवाला दिया और दावा किया कि राष्ट्रपति से मिलने वाले संदेशखाली से पहुंचे दल के सदस्य पीड़ित ही नहीं रहे होंगे.