इंदौर: इंदौर नगर निगम में सीवर लाइन के करोड़ों रुपये के फर्जी बिलों के भुगतान के कथित घोटाले में फरार कार्यपालन इंजीनियर को उत्तरप्रदेश के एटा से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी।

पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) पंकज कुमार पांडे ने बताया कि नगर निगम के कार्यपालन इंजीनियर अभय राठौर को उत्तरप्रदेश के एटा से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि आरोपी को एक स्थानीय अदालत में पेश किया जाएगा और उसे पुलिस हिरासत में भेजे जाने का अनुरोध किया जाएगा।

डीसीपी ने बताया कि राठौर नगर निगम के ड्रेनेज विभाग में लम्बे समय तक पदस्थ रहे हैं। पांडे ने बताया कि राठौर ने कुछ ठेकेदारों से मिलीभगत करके शहर में सीवर लाइन बिछाने के नाम पर उन्हें करोड़ों रुपये के फर्जी बिलों का भुगतान करा दिया, जबकि हकीकत में ये लाइन कभी बिछाई ही नहीं गई थीं।

उन्होंने बताया,‘‘ पुलिस की अब तक की जांच में पता चला है कि सीवर लाइन बिछाने के नाम पर नगर निगम में 53 करोड़ रुपये के फर्जी बिल पेश किए गए और इनके बदले 29 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया। जांच में इस घोटाले का आंकड़ा बढ़ सकता है।’’डीसीपी ने बताया कि फर्जी बिल घोटाले में चार ठेकेदारों और चार नगर निगम र्किमयों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।