अमेठी: राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस उनके गृह राज्य में अच्छा प्रदर्शन करेगी और उसकी सीटों की संख्या दोहरे अंकों में रहेगी। उन्होंने ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए साक्षात्कार में यह विश्वास भी जताया कि देश में ‘बदलाव की बयार’ की बह रही है और केंद्र में भी ‘इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इन्क्लूसिव अलायंस (इंडिया) गठबंधन की सरकार बनेगी।

गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उस टिप्पणी के लिए भी उन पर पलटवार किया जिसमें उन्होंने कहा था कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को ‘‘शहजादे की उम्र’’ से कम सीटें मिलेंगी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि इस तरह की ‘‘जुमलेबाजी’’ काम नहीं आएगी क्योंकि लोगों को समझ आ गया है कि भाजपा के ‘झूठ’ हद पार कर चुके हैं।

उनका कहना था, ‘‘पूरे देश में यह संदेश चला गया है कि ‘इंडिया’ गठबंधन की सरकार बनने जा रही है। (चुनाव के) पहले तीन चरणों से पता चला है कि यही स्थिति है।’’ गहलोत उत्तर प्रदेश में अमेठी लोकसभा क्षेत्र के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के पर्यवेक्षक हैं। इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार स्मृति ईरानी और कांग्रेस उम्मीदवार किशोरी लाल शर्मा के बीच मुकाबला है।

राजस्थान की 25 सीटों के संदर्भ में पूछे जाने पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस उनके गृह राज्य में बहुत अच्छा प्रदर्शन करने जा रही है। प्रदेश की सभी 25 सीट पर मतदान दो चरणों में संपन्न हो चुका है।
गहलोत ने कहा, ‘‘राजस्थान के लोग हमारी सरकार की योजनाओं को याद कर रहे हैं। भाजपा सरकार ने उन्हें बंद कर दिया है या कमजोर कर रही है, इसलिए उस पर बड़ी प्रतिक्रिया हो रही है।’’ कांग्रेस पिछले साल राजस्थान में विधानसभा चुनाव हार गई थी। भाजपा को 200 सदस्यीय सदन में 115 और कांग्रेस को 70 सीट मिली थीं।

गहलोत ने आरोप लगाया कि भाजपा ने झूठ का सहारा लेकर विधानसभा चुनाव जीता। उनका कहना था, ‘‘कन्हैया लाल हत्याकांड में हमने दो घंटे के भीतर अपराधियों को पकड़ लिया। अपराधी नेपाल या किसी अन्य जगह भाग सकते थे। हम पीड़ित के घर गए, अपनी संवेदना व्यक्त की, अपराधियों को पकड़ा और लोगों ने इसकी सराहना की।’’

उन्होंने कहा, ‘‘पहली बार किसी परिवार को 50 लाख रुपये का पैकेज दिया गया। हमने उस परिवार के दो बच्चों को नौकरी भी दी। एनआईए ने मामला अपने हाथ में ले लिया लेकिन कुछ नहीं हुआ। मामले का क्या हुआ, कोई नहीं जानता।’’

गहलोत ने दावा किया कि उनकी सरकार को इस झूठ के आधार पर बदनाम किया गया कि उसने कन्हैया लाल मामले में परिवार को केवल 5 लाख रुपये दिए जबकि एक अन्य मामले में एक मुस्लिम पीड़ित परिवार को 50 लाख रुपये दिए।

गहलोत ने रविवार रात ‘पीटीआई-भाषा’ से विशेष बातचीत में कहा, ‘‘यह सोशल मीडिया पर वायरल किया गया। यह सब लोगों के सामने स्पष्ट हो चुका है। इसलिए मैंने कहा है कि मुझे लगता है कि इस बार हम राजस्थान में दोहरे अंक में सीटें जीतने जा रहे हैं।’’ वर्ष में 2022 में उदयपुर में एक दर्जी कन्हैया लाल की हत्या कर दी गई थी।

प्रधानमंत्री मोदी की ‘शहजादे की उम्र से कम सीटें’ वाली टिप्पणी पर गहलोत ने कहा, ‘‘इसका जवाब यह है कि एक समय था जब मोदी जी कुछ कहते थे और लोग कहते थे इसे स्वीकार करें लेकिन अब वह समय बदल गया है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने (भाजपा) ‘400 पार’, ‘फिर एक बार मोदी सरकार’ से शुरुआत की और फिर भाजपा और उसके उम्मीदवार गायब हो गए। लोग समझ गए हैं कि वे ‘400 पार’ की बात क्यों कर रहे थे और संविधान बदलने की सोच रहे थे।’’

गहलोत के अनुसार, पहले से ही आरोप लगाए जा रहे हैं कि भाजपा संविधान को “नष्ट” कर रही है, लोकतंत्र खतरे में है, चुनावी बॉन्ड का बड़ा ‘‘घोटाला’’ सामने आया है और प्रवर्तन निदेशालय, सीबीआई और आयकर विभाग का दुरुपयोग किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि दो मुख्यमंत्रियों (दिल्ली के अरंिवद केजरीवाल और झारखंड के हेमंत सोरेन) को जेल में डाल दिया गया है। उनका कहना था, ‘‘भाजपा के ये कदम उसके ही खिलाफ चले गए। अब स्थिति में बदलाव आया है, इसलिए मोदी जी अब कुछ भी कहे जा रहे हैं, मंगलसूत्र से लेकर… कांग्रेस आपकी ‘भैंस’ ले जाएगी, कांग्रेस का घोषणापत्र मुस्लिम लीग का है,….ऐसी बातें कर रहे हैं।’’

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री ने एक चुनावी रैली में प्रधानमंत्री की उस हालिया टिप्पणी को लेकर भी उन पर निशाना साधा कि राहुल गांधी ने अपने हमलों में अडाणी और अंबानी का नाम लेना क्यों बंद कर दिया है। गहलोत ने कहा, ‘‘उन्होंने (मोदी) अडाणी-अंबानी का संदर्भ भी दिया। अगर उन्होंने ऐसा कहा है, तो उन्हें सीबीआई से मामला दर्ज कराना चाहिए और जांच करानी चाहिए।

एक मामला तब दर्ज किया गया था जब महिलाएं ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान राहुल गांधी से मिली थीं और उन्हें बताया कि उनके साथ क्या हुआ था।’’ उनका कहना था, ‘‘दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज किया और उनका बयान लेने आए।

सत्यपाल मलिक ने 120 करोड़ रुपये के घोटाले के मामले को उठाया जो सीबीआई उनके पीछे पड़ गई। यहां मोदी जी खुद कह रहे हैं कि टेम्पो में लादकर बहुत सारा काला धन (कांग्रेस को) दिया गया। प्रधानमंत्री जो कहते हैं वो महत्वपूर्ण है, इसलिए मामला दर्ज किया जाना चाहिए, लेकिन कुछ नहीं हो रहा है।’’