अमेठी. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर आरोप लगाया कि वह जनता का आदर नहीं करते, बस फिजूल की बातें करते हैं. कांग्रेस महासचिव अमेठी से पार्टी उम्मीदवार किशोरी लाल शर्मा के समर्थन में मोहइया केसरिया में आयोजित एक चुनावी जनसभा को संबोधित कर रही थीं.

उन्होंने करीब 45 मिनट के अपने लंबे भाषण में प्रधानमंत्री पर किसी किसान के घर नहीं जाने का आरोप लगाते हुए कहा , ”कल वाराणसी में उन्होंने रोड शो किया, इतनी ऊंची गाड़ी पर खड़े हो गये और सुरक्षार्किमयों के बीच खड़े होकर हाथ हिला रहे थे, उन्­हें क्­या मालूम कि आपको क्या दुख है, वह सिर्फ सेठों के साथ दिखते हैं.”

प्रियंका गांधी ने अपने भाई से उनकी तुलना करते हुए कहा, ”उन्होंने (मोदी) कभी आपका कष्ट नहीं सुना लेकिन आपने जिसे हराया, वह यानी मेरे भाई (राहुल गांधी) कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक देशवासियों की समस्या सुनने के लिए चार हजार किलोमीटर पैदल चले हैं. यह विचारधारा और राजनीतिक सभ्यता का फर्क है.” मोदी ने मंगलवार को अपने नामांकन से एक दिन पूर्व सोमवार को वाराणसी में लंका से काशी विश्­वनाथ धाम तक छह किलोमीटर लंबा रोड शो किया था.

प्रियंका गांधी ने अमेठी की सांसद और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का नाम लिए बिना उन पर नकारात्मक राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि आपने जब इस (नकारात्मक) राजनीति को उभरने दिया तो उन्होंने 10 साल में जनता के प्रति जवाबदेही खत्म कर दिया.

उन्होंने कहा ”प्रधानमंत्री जी तक , जो इस देश का सबसे बड़ा पद संभाले हुए हैं, भी इस देश की जनता का इतना आदर नहीं करते हैं कि अगर वह चुनाव में प्रचार करने , वोट मांगने आएं हैं, तो कम से कम जनता को इतना बता दें कि 10 सालों में उन्होंने आपके लिए क्­या किया है. आपसे फिजूल की बातें करते हैं.”

प्रियंका गांधी ने कहा ,” मुझे यकीन नहीं होता कि ये देश के प्रधानमंत्री हैं, कभी कह रहे हैं कि सावधान रहो, कांग्रेस पार्टी वाले एक्सरे की मशीन लाएंगे और वे तुम्­हारे मंगलसूत्र, तुम्हारे गहनों को खोज लेंगे तथा उसको चुराकर किसी और को दे देंगे.” उन्होंने मतदाताओं से अपील की, ”आप लोग आवाज उठाइए कि हमें भैंसों के बारे में, मंगलसूत्र के बारे में नहीं सुनना है, चुनाव के समय मंदिर-मस्जिद की बात मत कीजिए, चुनाव के समय हमारी समस्याओं के समाधान की बात कीजिए. आप जागरूक बनेंगे तो नेता मजबूर हो जाएंगे.” प्रियंका गांधी ने कहा कि जब वह छोटी थी और यहां प्रचार करने आयी थीं तो उनके पिताजी (राजीव गांधी) ने विकास कार्य गिनाने को कहा था.

उन्होंने कहा, ”मैं छोटी थी, मेरे पिताजी ने मुझे यहां प्रचार के लिए भेजा तो उन्होंने बताया कि जाओ और जो हमने काम किया उसे बताओ और कहो कि आप लोग वोट देंगे तो वह और विकास करेंगे.” दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सराहना करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा , ”सिर्फ राजीव गांधी ही नहीं, उनके बाद वाले भाजपा के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भी सभ्­य इंसान थे, जनता के प्रति उनमें आदर था, उनको यह समझ थी कि जनता के प्रति कुछ जवाबदेही है, कुछ काम करना है.”

उन्होंने कहा , ”देश के प्रधानमंत्री आपको एक काम नहीं गिना सकते कि उन्होंने किसानों के लिए क्या किया. इधर-उधर की बात कर आपका ध्यान भटकाते हैं.” उन्होंने कहा, ” वह कहते हैं कि भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी जी अकेले हैं, इसलिए सभी उनके खिलाफ हैं, लेकिन सबसे बड़ी भ्रष्टाचार की स्कीम उन्होंने ही निकाली है. पहले नेता भ्रष्टाचार छुप कर करता था लेकिन इन्­होंने चुनावी बॉण्ड की स्कीम बना दी कि जो चंदा देगा उसका नाम गुप्त होना चाहिए. जो नहीं होने चाहिए, वह हो रहा है, देश की संपत्ति अरबपतियों के नाम हो रही है.”

प्रियंका गांधी ने अमेठी की जनता को राजनीतिक सभ्यता स्थापित करने का श्रेय देते हुए कहा , ”यहां पर अमेठी में आपने एक राजनीतिक सभ्यता स्थापित की, यह आपकी जागरुकता थी कि आपने मेरे पिताजी, माताजी को बार-बार जिताया.” उन्होंने अपने पिता राजीव गांधी, मां सोनिया गांधी और भाई राहुल गांधी के कार्यकाल में अमेठी के विकास का दावा करते हुए अमेठी से पारिवारिक रिश्ता जोड़ा और कहा ”आप मजाक करते हैं, प्यार करते हैं और जब डांट लगानी होती है, तो आप डांट लगाते थे. जो श्रद्धा रही वह एक तरफा नहीं रही. यहां और रायबरेली में दोनों जगह आपने एक परंपरा स्थापित की.”

कांग्रेस महासचिव ने झूठ फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा, ”उनका (स्­मृति ईरानी) एक ही मकसद था कि वह राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लडेंगी और उनको चुनाव हराएंगी.” स्­मृति ईरानी पर अपने हमले को तेज करते हुए उन्होंने कहा, ”उनका मकसद कभी सकारात्मक नहीं रहा, नकारात्मक रहा है. वह तो इसलिए आयीं कि अपनी राजनीति का मकसद पूरा कर सकें, मकसद पूरा हो गया, पिछले चुनाव में भैया हार गये तो फिर विकास, काम का कोई नामो निशान नहीं.” अपने परिवार को अमेठी के विकास का श्रेय देते हुए उन्होंने कहा ,”आज देश में कमाल की राजनीति हो रही है, आज भाजपा के जो नेता हैं, चाहे प्रधानमंत्री हों या यहां की संसद हो, वे सोचते हैं कि जनता के प्रति कोई जवाबदेही नहीं है, ये सोचते हैं कि धर्म के आधार पर आकर आपसे वोट ले लेना है.”

किसी का नाम लिए बिना उन्होंने कहा , ”आपने कोई सरकार चुन ली, उनको पसंद नहीं आयी. उन्होंने घूस देकर, डराकर , धमकाकर तमाम गलत काम कराकर विधायकों से सरकार पलटवा देते हैं. ये ऐसा खुलेआम करते हैं. कोई शर्म नहीं कि वे लोकतंत्र को कमजोर कर रहे हैं.” उन्होंने किशोरी लाल शर्मा को 40 साल से अमेठी की सेवा करने का श्रेय दिया और उनको वोट की अपील की. सभा को किशोरी लाल शर्मा ने भी संबोधित किया.