नयी दिल्ली/पटना. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने बुधवार को हिन्दू-मुसलमान की राजनीति ना करने वाली प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उस टिप्पणी का सोमवार को यह कहते हुए बचाव किया कि उन्होंने बिना किसी भेदभाव के समाज के सभी वर्गों के विकास के लिए काम किया है.

चुनाव प्रचार में कांग्रेस और उसके सहयोगियों द्वारा मोदी पर सांप्रदायिक राजनीति का आरोप लगाए जाने के बीच प्रधानमंत्री ने मंगलवार को न्यूज18 से कहा था कि अगर वह ‘हिंदू-मुस्लिम’ करते हैं तो वह सार्वजनिक जीवन के लिए उपयुक्त नहीं होंगे. हालांकि, कांग्रेस ने आरोप लगाया कि ‘निवर्तमान प्रधानमंत्री’ का हिंदू-मुस्लिम राजनीति को छोड़कर कोई एजेंडा नहीं है क्योंकि ‘मोदी की गारंटी’ का उनका अभियान औंधे मुंह गिर गया है और ‘400 पार’ के दावे की हवा निकल गई है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि मोदी ने अपने समावेशी शासन से सांप्रदायिक तुष्टीकरण को खत्म कर दिया. उन्होंने कहा कि उनकी कई कल्याणकारी योजनाओं ने बिना किसी जाति, धर्म या क्षेत्रीय पूर्वाग्रह के सबसे गरीब लोगों को लाभान्वित किया है.

भाजपा नेता ने कहा कि मोदी के आलोचक भी इस बात से इनकार नहीं कर सकते कि उनकी योजनाओं से सभी को फायदा हुआ है.
भाजपा प्रवक्ता आर पी सिंह ने दावा किया कि कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने मुसलमानों के लिए आरक्षण और पर्सनल लॉ को मजबूत करने के पक्ष में बोला है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र में पर्सनल लॉ को मजबूत करने का वादा किया गया है. उन्होंने आरोप लगाया गया कि इसका मतलब शरिया के कुछ हिस्सों को लागू करना है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद मुसलमानों के लिए आरक्षण के पक्षधर हैं.

सिंह ने कहा, ”भाजपा का एजेंडा देश की उन्नति के लिए है.” उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी का घोषणापत्र स्वास्थ्य बीमा, आवास, जल एवं बिजली सुविधाओं का विस्तार करने और बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने के लिए है जो समाज के सभी वर्गों के लिए है. प्रधानमंत्री की आलोचना करते हुए कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री की यह बात झूठ है कि वह हिंदू- मुस्लिम की राजनीति नहीं करते. उन्होंने यह दावा भी किया कि लोकसभा चुनाव के प्रचार अभियान के दौरान प्रधानमंत्री के पास हिंदू-मुस्लिम की राजनीति को छोड़कर कोई एजेंडा नहीं था.

रमेश ने ‘एक्स’ पर पोस्ट में कहा, ”सारा देश भलीभांति जानता है कि निवर्तमान प्रधानमंत्री आदतन झूठ बोलते हैं और दो तरह की बातें उनकी प्रवृत्ति है. श्री मोदी का यह दावा कि वह हिंदू-मुस्लिम राजनीति नहीं करते, यह दर्शाता है कि वह झूठ बोलने में दिन प्रति दिन नयी गहराइयों तक गिरते जा रहे हैं.” उन्होंने दावा किया, “19 अप्रैल 2024 के बाद से यह सार्वजनिक सच है, एक ऐसा सच जिसे हमारी सामूहिक स्मृति से नहीं मिटाया जा सकता है, भले ही श्री मोदी अपनी निजी स्मृति से उसे मिटा दें कि प्रधानमंत्री ने खुलेआम और बेशर्मी से सांप्रदायिक भाषा, प्रतीकों और संकेतों का निरंतर उपयोग किया है.” भाजपा के एक अन्य प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि मोदी ने देश की 140 करोड़ से अधिक आबादी को हमेशा एक माना है और विपक्ष ने उन पर हिंदू-मुस्लिम का आरोप चस्पा करने का प्रयास किया है. उन्होंने कहा कि मोदी ने कभी हिंदू-मुस्लिम के नाम पर राजनीति नहीं की.

कांग्रेस मुसलमानों की तरफदारी करती है, मोदी किसी से भेदभाव नहीं करते : गिरिराज सिंह
केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कांग्रेस समेत विपक्षी दलों पर अल्पसंख्यकों की तरफदारी करने का आरोप लगाते हुए बुधवार को कहा कि नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने मुसलमानों से कभी भेदभाव नहीं किया. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी मोदी के तीसरे कार्यकाल में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के 400 से अधिक सीटें जीतने के साथ ही अयोध्या की तरह काशी और मथुरा में भी भव्य मंदिरों के निर्माण को लेकर उत्सुक है.

सिंह ने ‘पीटीआई वीडियो’ से कहा, ”जब मोदी ने गैस सिलेंडर, मुफ्त राशन, गरीबों के लिए घर और शौचालय जैसी सुविधाएं प्रदान की, तो कोई भेदभाव नहीं किया गया क्योंकि लाभार्थियों में हिंदू और मुस्लिम दोनों शामिल थे.” पंचायती राज और ग्रामीण विकास मंत्री सिंह ने कहा, ”यह पिछली कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकारों के विपरीत था, जब मुसलमानों को तरजीह दी गई और तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने संसाधनों पर पहला हक अल्पसंख्यक समुदाय का होने की खुले तौर पर वकालत की थी.” उन्होंने आरोप लगाया कि कर्नाटक जैसे राज्य में, जहां कांग्रेस सत्ता में है ”सभी मुसलमानों को हिंदू पिछड़े वर्गों का नुकसान करते हुए चुपचाप ओबीसी घोषित कर दिया गया” और बिहार में कांग्रेस के राजद जैसे सहयोगी दल भी ऐसा ही करने का इरादा रखते हैं.

भाजपा नेता ने कहा, ”2019 में 300 से अधिक सीटें मिलने के बाद सरकार ने अनुच्छेद 370 को निरस्त कर दिया. इस बार, 400 से अधिक सीटों के साथ, सरकार विरासत (सांस्कृतिक विरासत की रक्षा करते हुए तेज आर्थिक विकास) के साथ विकास की शुरुआत करेगी.” उन्होंने कहा, ”हमने पहले ही अयोध्या में एक मंदिर बनवा लिया है. अब, काशी और मथुरा में भी भव्य मंदिर होंगे.” केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे पर कटाक्ष करते हुए उन्हें ”राहुल गांधी का भोंपू” बताया. बिहार की बेगूसराय लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले सिंह ने राहुल गांधी पर भाजपा नेता स्मृति ईरानी से हार के बाद अमेठी से ”भागने” का आरोप लगाया और दावा किया कि कांग्रेस नेता रायबरेली में हारेंगे.