चंडीगढ़/अमृतसर. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को लोगों से कहा कि अगर वे नहीं चाहते कि वह (केजरीवाल) वापस जेल जाएं तो आम आदमी पार्टी (आप) को वोट करें. पंजाब की अमृतसर लोकसभा सीट से पार्टी उम्मीदवार कुलदीप सिंह धालीवाल के लिए रोडशो करते हुए ‘आप’ सुप्रीमो ने यह भी दावा किया कि अगर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को लोकसभा में बहुमत मिलता है तो वह अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी) और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लिए आरक्षण को खत्म कर देगी.

केजरीवाल ने भाजपा का जिक्र करते हुए कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ दल के नेता कह रहे हैं कि उन्हें (केजरीवाल) 20 दिन बाद जेल जाना होगा. केजरीवाल ने कहा, ”मैं जेल वापस जाऊंगा या नहीं यह आप पर निर्भर करता है. अगर आप ‘झाड़ू’ (आप का चुनाव चिह्न) का बटन दबाएंगे तो मुझे जेल जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी.” उन्होंने कहा, ”बटन दबाते हुए यह याद रखियेगा कि आप केजरीवाल की आजादी के लिए बटन दबा रहे हैं या फिर केजरीवाल को जेल भेजने के लिए.” न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता की पीठ ने ‘आप’ के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल को दी गई अंतरिम जमानत के संबंध में दिए गए कुछ बयानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केजरीवाल के वकीलों के दावों तथा जवाबी दावों पर विचार करने से इनकार कर दिया.

ईडी की ओर से सॉलसिटर जनरल तुषार मेहता ने चुनावी रैलियों में दिए गए केजरीवाल के इन भाषणों पर विरोध जताया कि अगर जनता आम आदमी पार्टी को वोट देती है तो उन्हें दो जून को जेल वापस नहीं जाना पड़ेगा. न्यायालय ने 10 मई को इस मामले में केजरीवाल को एक जून तक अंतरिम जमानत दी थी. एक जून को लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के तहत मतदान होगा.
दिल्ली के मुख्यमंत्री को 21 मार्च को गिरफ्तार किया गया था. केजरीवाल ने रोड शो के दौरान भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर भाजपा फिर से सत्ता में आई तो देश में चुनाव नहीं होंगे. केजरीवाल ने कहा, ”उन्होंने (भाजपा) पूरी योजना तैयार कर ली है. ”

उन्होंने कहा, ”अगर उन्हें (भाजपा को) बहुमत मिला तो वे एससी, एसटी, ओबीसी के लिए आरक्षण को खत्म कर देंगे और संविधान को समाप्त कर देंगे.” केजरीवाल ने कहा कि ये चुनाव सामान्य चुनाव नहीं हैं. केजरीवाल ने कहा, “आप उससे (भाजपा) लड़ रही है और इसीलिए वह हमारे पीछे पड़ी है.” उन्होंने कहा, ”उन्होंने (भाजपा) बड़े-बड़े नेताओं को जेल में डाल दिया है. लेकिन हमारे लिए जेल कोई समस्या नहीं है. हमारे लिए देश और संविधान सर्वोच्च है.” इससे पहले, केजरीवाल ने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में मत्था टेका और दुर्गियाना मंदिर में पूजा भी की.