ओटावा. खालिस्तानी अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या से जुड़े मामले में गिरफ्तार भारतीय नागरिक अमनदीप सिंह को कनाडा की अदालत के समक्ष बुधवार को पेश किया गया. अदालत ने उसे 21 मई को दोबारा पेश करने का निर्देश दिया है. इस र्चिचत मामले में अमनदीप सिंह, तीन अन्य लोगों के साथ सह आरोपी है. निज्जर की हत्या के मामले को लेकर भारत और कनाडा के रिश्तों में तनाव पैदा हो गया है.

स्थानीय मीडिया ने बताया कि अमनदीप सिंह (22) को वीडियो कान्फ्रेंस के जरिये बुधवार को सरे की अदालत में पेश किया गया जिसके बाद न्यायधीश ने मामले की सुनवाई अगले सप्ताह के लिए टाल दी. निज्जर (45) की पिछले साल 18 जून को ब्रिटिश कोलंबिया के सरे में स्थित गुरु नानक सिख गुरुद्वारा के सामने गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

अमनदीप पर 11 मई को हत्या और हत्या करने की साजिश रचने का अभियोग लगाया गया. इससे करीब एक सप्ताह पहले करण बराड़ (22), कमलप्रीत सिंह(22) और करणप्रीत सिंह (28) के खिलाफ भी इसी तरह का अभियोग लगाने की घोषणा की गई थी.
अमनदीप को ओंटारियो से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सरे की अदालत में पेश किया गया. वह पहले ही हथियार के मामले में पील क्षेत्रीय पुलिस की हिरासत में है.

न्यायाधीश ने कहा कि मामले की अगली सुनवाई 21 मई को होगी और तब उसे निज्जर की हत्या की साजिश रचने के तीन अन्य आरोपियों के साथ पेश किया जाए. अमनदीप की पेशी में तकनीकी कारणों से देरी हुई. उसकी पेशी से पहले अदालत कक्ष के बाहर करीब दो दर्जन लोग खालिस्तान के समर्थक झंडे लेकर खड़े थे. पुलिस के मुताबिक अमनदीप, करण बराड़, कमलप्रीत सिंह और करणप्रीत सिंह भारतीय नागरिक हैं. अमनदीप कनाडा के ब्रैम्पटन, एबॉट्सफ.ोर्ड और सरे में अपना समय बिताता था. कनाडियाई मीडिया के मुताबिक आरोपी उस हमलावर दस्ते के सदस्य थे जिनके बारे में माना जा रहा है कि भारत सरकार ने उन्हें निज्जर की हत्या करने का जिम्मा सौंपा था.

सीबीसी न्यूज की खबर के अनुसार, निज्जर की मौत के समय अमनदीप पहले से ही कनाडा में कानूनी मामलों में फंस गया था. खबर के अनुसार, अस्थायी वीजा पर कनाडा में आया भारतीय नागरिक, गुरु नानक सिख गुरुद्वारे के प्रवेश द्वार पर निज्जर की हत्या के लिए इंतजार करने से ठीक दो दिन पहले एक असंबद्ध मामले पर आरोपों का जवाब देने के लिए सरे की अदालत में पेश हुआ था.
अमनदीप को मार्च 2023 में पुलिस की गिरफ्त से फरार होने के बाद जारी वारंट के आधार पर सरे से गिरफ्तार किया गया था. उसे पुलिस के चंगुल से भागने और खतरनाक तरीके से वाहन चलाने के आरोप में पहली बार 16 जून 2023 को अदालत में पेश किया गया था.