बीजिंग. चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनके रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन ने बृहस्पतिवार को कहा कि दोनों देशों के बीच संबंध दुनिया के लिए एक स्थिर कारक और अन्य देशों के लिए एक अच्छा उदाहरण बन गए हैं. सत्ता में पांचवीं बार फिर से चुने जाने के कुछ दिनों बाद पुतिन अपनी पहली विदेश यात्रा पर चीन पहुंचे हैं.

शी ने दो दिवसीय यात्रा पर पुतिन का स्वागत करते हुए कहा कि चीन-रूस राजनयिक संबंधों की 75वीं वर्षगांठ मनाना एक निर्णायक विषय है. रूस-यूक्रेन का जिक्र किए बिना उन्होंने कहा, “यह रिश्ता पड़ोसी देशों के लिए एक-दूसरे के साथ सम्मान और स्पष्टवादिता के साथ व्यवहार करने और दोस्ती तथा पारस्परिक लाभ को आगे बढ़ाने का एक अच्छा उदाहरण बन गया है.” यूक्रेन युद्ध में रूस के प्रति अपना समर्थन वापस लेने के लिए अमेरिका और यूरोपीय संघ चीन पर दबाव बना रहे हैं. शी ने कहा कि वह और पुतिन 40 से अधिक बार मिल चुके हैं जिसमें बातचीत के दौरान रणनीतिक मार्गदर्शन प्रदान किया गया है जिससे रिश्तों का मजबूत, स्थिर और सुचारू विकास सुनिश्चित हुआ है.

ची ने कहा,” चीन-रूस के आपसी संबंध कड़ी मेहनत से बनाए गए हैं जिन्हें दोनों पक्षों द्वारा संजोने और पोषित करने की आवश्यकता है.” उन्होंने कहा, “चीन-रूस संबंधों का स्थिर विकास न केवल दोनों देशों और दोनों लोगों के बुनियादी हितों में है बल्कि क्षेत्र और दुनिया भर में शांति, स्थिरता और समृद्धि के लिए भी अनुकूल है.” पुतिन ने अपने भाषण में शी को ‘मेरे प्रिय मित्र’ कहकर संबोधित किया. उन्होंने कहा, “यह बुनियादी महत्व की बात है कि रूस और चीन के बीच संबंध अवसरवादी नहीं हैं और किसी के खिलाफ निर्देशित नहीं हैं”.

रूसी समाचार एजेंसी तास की एक खबर के अनुसार पुतिन ने कहा, “वैश्विक मामलों में हमारा सहयोग आज अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में मुख्य स्थिर कारकों में से एक के रूप में कार्य करता है.” पुतिन ने यह भी कहा कि रूस यूक्रेन पर बातचीत के लिए तैयार है. चीन की आधिकारिक शिन्हुआ समाचार एजेंसी के अनुसार पुतिन ने कहा, “हम यूक्रेन पर बातचीत के लिए तैयार हैं, लेकिन ऐसी बातचीत में हमारे अलावा भी संघर्ष में शामिल सभी देशों के हितों को ध्यान में रखा जाना चाहिए.” पुतिन ने कहा, “रूस और चीन संयुक्त राष्ट्र, ब्रिक्स, एससीओ और जी20 में सफलतापूर्वक सहयोग कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, “हम ‘बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव (बीआरआई)’ की क्षमता को संयोजित करने के लिए यूरेशियन क्षेत्र में एकीकरण प्रक्रियाओं को और अधिक सामंजस्यपूर्ण बनाने की खातिर दृढ़ हैं.” रूसी समाचार एजेंसी तास ने बताया कि पुतिन एक बड़ा प्रतिनिधिमंडल लेकर आए हैं जिसमें पांच उप प्रधानमंत्री, आर्थिक, राजनयिक और सुरक्षा एजेंसियों के प्रमुखों के साथ-साथ सैन्य-तकनीकी सहयोग संघीय सेवा के प्रमुख, रूसी रेलवे, रोसतॉम परमाणु ऊर्जा निगम और रोस्कोस्मोस स्टेट कोरपोरेशन फॉर स्पेस एक्टीविटीज के प्रमुख शामिल हैं.