चंडीगढ़. पंजाब की खडूर साहिब सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे कट्टरपंथी उपदेशक अमृतपाल सिंह को ‘माइक’ चुनाव चिह्न आवंटित किया गया है. ‘वारिस पंजाब दे’ संगठन का प्रमुख अमृतपाल राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत असम की डिब्रूगढ़ जेल में बंद है. अमृतपाल राज्य में चुनाव लड़ रहे कुल 328 उम्मीदवारों में से उन 169 निर्दलीय उम्मीदवारों में शामिल हैं, जिन्हें चुनाव चिह्न आवंटित किए गए हैं.

फरीदकोट (सुरक्षित) निर्वाचन क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे सरबजीत सिंह खालसा को ‘गन्ना किसान’ चुनाव चिह्न आवंटित किया गया है. सरबजीत दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्यारों में से एक बेअंत सिंह का बेटा है. इंदिरा गांधी के अंगरक्षकों- बेअंत सिंह और सतवंत सिंह ने 31 अक्टूबर 1984 को उनके सरकारी आवास पर उनकी हत्या कर दी थी.

इस बीच, पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) सिबिन सी. ने रविवार को कहा कि पंजाब की 13 लोकसभा सीट के लिए चुनाव लड़ रहे 328 उम्मीदवारों को भारत के निर्वाचन आयोग के निर्देशों के अनुसार जिला चुनाव अधिकारियों द्वारा चुनाव चिह्न आवंटित किए गए हैं.

निर्दलीय उम्मीदवारों को आवंटित चुनाव चिह्नों में हारमोनियम, डम्बल, सेब, चिमटा, हॉकी और गेंद, स्टूल, जहाज, गैस सिलेंडर, बैटरी टॉर्च, अलमारी, कंप्यूटर, बल्लेबाज, बल्ला, ट्रक, खाट, फूलगोभी, पेट्रोल पंप, टेलीविजन, लैपटॉप, ऑटो रिक्शा, प्रेशर कुकर, प्लास्टरिंग ट्रॉवेल, बांसुरी, हीरा, रोड रोलर, लेटरबॉक्स, चिमनी और सिलाई मशीन शामिल हैं.