हैदराबाद. अभिषेक शर्मा की अगुवाई में बल्लेबाजों की बेखौफ पारियों से सनराइजर्स हैदराबाद ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) टी20 मैच में रविवार के यहां पंजाब किंग्स के खिलाफ पांच गेंद शेष रहते चार विकेट से जीत दर्ज की. मैन ऑफ द मैच अभिषेक ने 28 गेंद की पारी में पांच चौके और छह छक्के लगाने के साथ दूसरे विकेट के लिए राहुल त्रिपाठी (33) के साथ 30 गेंद में 72 और तीसरे विकेट के लिए नीतिश कुमार रेड्डी (37) के साथ 31 गेंद में 57 रनों की साझेदारी कर टीम की जीत की नींव रखी.

पंजाब किंग्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए चार विकेट पर 214 रन बनाये लेकिन सनराइजर्स ने 19.1 ओवर में छह विकेट पर 215 रन बनाकर शानदार जीत दर्ज की. इस जीत से सनराइजर्स के 14 मैचों में 17 अंक हो गये जबकि पंजाब का अभियान 10 अंकों के साथ नौवें पायदान पर खत्म हुआ. सनराइजर्स की टीम तालिका में अभी दूसरे स्थान पर है लेकिन उसका इस स्थान पर बने रहना शाम को राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के बीच खेले जाने वाले मैच के परिणाम पर निर्भर करेगा.

त्रिपाठी ने 18 गेंद की पारी में चार चौके और दो छक्के जड़े जबकि रेड्डी ने 24 गेंद की पारी में तीन छक्के और एक चौके की मदद से 37 रन का योगदान दिया. उन्होंने क्लासेन के साथ चौथे विकेट के लिए 23 गेंद में 47 रन की साझेदारी की. क्लासेन ने 26 गेंद में 42 रन की पारी के दौरान तीन चौके और दो छक्के लगाये. अर्शदीप सिंह ने 37 रन और हर्षल पटेल ने 49 रन देकर दो-दो विकेट लिये.

पंजाब के लिए सलामी बल्लेबाज प्रभसिमरन सिंह की 45 गेंद में 71 रन की पारी के अलावा पहले विकेट के लिए अथर्व तायडे के साथ 55 गेंद में 97 और दूसरे विकेट के लिए रिली रोसेयु के साथ 32 गेंद में 54 रन की साझेदारी की. उन्होंने अपनी आक्रामक पारी में सात चौके और चार छक्के जड़े.

तायडे और रोसेयु दोनों अपना अर्धशतक पूरा करने से चूक गये. तायडे ने 27 गेंद में पांच चौके और दो छक्के की मदद से 46 तो वही रोसेयु ने 24 गेंद में तीन चौके और चार छक्के की मदद से 49 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली. कार्यवाहक कप्तान सैम कुरेन के इंग्लैंड लौटने के कारण टीम की अगुवाई कर रहे जितेश शर्मा ने आखिरी ओवरों में 15 गेंद में नाबाद 32 रन बनाकर टीम के स्कोर को 214 रन तक पहुंचाया. सनराइजर्स हैदराबाद के लिए टी नटराजन ने चार ओवर में 33 रन देकर दो विकेट लिये. कप्तान पैट कमिंस और विजयकांत व्यासकांत को एक-एक सफलता मिली.

लक्ष्य का बचाव करते हुए अर्शदीप ने पारी की पहली ही गेंद पर ट्रेविस हेड (शून्य) को बोल्ड कर पंजाब को शानदार शुरुआत दिलाई लेकिन टीम में वापसी कर रहे त्रिपाठी और शानदार लय में चल रहे अभिषेक पर इसका कोई असर नहीं पड़ा. त्रिपाठी ने अर्शदीप के खिलाफ लगातार दो चौके जड़ने के बाद ऋषि धवन के खिलाफ लगातार गेंदों पर छक्का और दो चौके लगाये. अभिषेक ने तीसरे ओवर में हर्षल का स्वागत चौके से करने के बाद इसका अंत छक्के से किया. हर्षल ने इसके बाद नो बॉल पर त्रिपाठी से छक्का खाने के बाद उन्हें पवेलियन की राह दिखा वापसी की.

अभिषेक छठे ओवर में ऋषि के खिलाफ छक्का जड़ने के बाद आईपीएल के एक सत्र में सबसे ज्यादा छक्के जड़ने का रिकॉर्ड अपने नाम किया. उन्होंने विराट कोहली के 2016 में लगाये गये 38 छक्को का रिकॉर्ड तोड़ा. अभिषेक ने 21 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा करने के बाद हरप्रीत बरार के खिलाफ लगातार गेंदों पर छक्के जड़ दिये. जितेश ने गेंद शशांक सिंह को थमाई और इस गेंदबाज ने अभिषेक की तेजतर्रार पारी का अंत किया.

अभिषेक के आउट होने के बाद भी पंजाब के गेंदबाजों को राहत नसीब नहीं हुई. रेड्डी और क्लासेन ने राहुल चाहर और हरप्रीत बराड़ के खिलाफ आसानी से छक्के लगाये. हर्षल ने धीमी गेंद पर रेड्डी को गच्चा देकर चलता किया तो वहीं अर्शदीप ने शाहबाज अहमद को शशांक के हाथों कैच कराया. अपनी शुरुआती दो ओवरों में महंगे रहे बरार ने क्लासेन को बोल्ड कर उनकी आक्रामक पारी पर रोक लगाई लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी.

इससे पहले प्रभसिमरन ने भुवनेश्वर तो वहीं तायडे ने कमिंस और नटराजन के खिलाफ चौके जड़े पंजाब को आक्रामक शुरुआत दिलायी. प्रभसिमरन ने कमिंस के खिलाफ फाइन लेग के ऊपर से तो वहीं तायडे ने भुवनेश्वर के खिलाफ लांग ऑन के ऊपर से शानदार  छक्के जड़ पावरप्ले में टीम का स्कोर बिना किसी नुकसान के 61 रन कर दिया. शुरुआती छह ओवरों के बाद भी दोनों का आक्रामक अंदाज जारी रहा तायडे ने वामहस्त स्पिनर शाहबाज का स्वागत चौका और छक्का से कर सनराइजर्स पर दबाव बना दिया.

नटराजन ने 10वें ओवर में तायडे को पवेलियन की राह दिखा कर उन्हें अर्धशतक और प्रभसिमरन के साथ शतकीय साझेदारी को पूरा करने से रोक दिया. उन्होंने इस ओवर में सिर्फ दो रन खर्च किये. प्रभसिमरन ने अगले ओवर में विजयकांत व्यासकांत के खिलाफ दो रन लेकर 34 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा कर लॉग ऑन के ऊपर से छक्का जड़ दिया.

क्रीज पर आये रोसेयु ने रेड्डी की गेंद पर चौका और छक्का लगाकर हाथ खोलने के बाद नटराजन की गेंद को दर्शक दीर्घा में भेजा.
टीम 14 वें ओवर के बाद एक विकेट पर 151 रन बनाकर बेहतर स्थिति में थी लेकिन 15वें ओवर में व्यासकांत की गेंद पर क्लासेन के शानदार कैच से प्रभसिमरन की आक्रामक पारी को खत्म किया.

रोसेयु ने रेड्डी के खिलाफ छक्का और चौका लगाया लेकिन शानदार लय में चल रहे शशांक सिंह (दो) उनके साथ गफलत का शिकार होकर रन आउट हो गये. भुवनेश्वर ने अपने आखिरी और पारी के 17वें ओवर में सिर्फ छह रन देकर रन गति पर अंकुश लगाया जिसका फायदा कमिंस को रोसेयु और नटराजन को आशुतोष शर्मा (दो रन) के विकेट से मिला. जितेश ने आखिरी ओवर में रेड्डी की गेंद पर चौका लगाकर टीम को 200 रन तक पहुंचाया और आखिरी दो गेंदों पर लगातार छक्के जड़ दिये.