उल्याकटोपो. जलवायु कार्यकर्ता सोनम वांगचुक ने कहा कि उनके हालिया बयान की छोटी क्लिप को “तोड़-मरोड़कर” और “संदर्भ से बाहर” पेश करके यह दिखाया गया है कि वह कश्मीर के बारे में बात कर रहे थे और देश विरोधी बयान दे रहे थे. वांगचुक ने यहां ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ”बयानों को तोड़-मरोड़कर पेश करना ठीक नहीं है. मैंने कश्मीर के बारे में कुछ नहीं कहा है.” उन्होंने कहा, ”बयानों को तोड़-मरोड़कर पेश करना और छोटी क्लिप प्रसारित किया जाना दुखद है.”

वांगचुक ने कहा, “कारगिल के एक नेता ने कहा था कि लद्दाख को कश्मीर के साथ फिर से मिलाया जाना चाहिए. मैंने इस पर आपत्ति जताई और कहा कि अगर यह उनका निजी विचार है, तो ठीक है, लेकिन अगर कारगिल के सभी लोगों को ऐसा लगता है, तो वे ऐसा कर सकते हैं. लेकिन लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश बना रहेगा.” वांगचुक ने कहा, “हमारी कश्मीर के साथ फिर से विलय में कोई दिलचस्पी नहीं है. यही संदर्भ था. उस (साक्षात्कार) की एक छोटी क्लिप को इस तरह दिखाया गया कि जैसे मैं कश्मीर के बारे में बात कर रहा हूं और राष्ट्र-विरोधी बयान दे रहा हूं.”