यरुशलम. अंतरराष्ट्रीय अपराध अदालत (आईसीसी) के मुख्य अभियोजक करीम खान ने सोमवार को कहा कि वह इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू सहित इजराइल और हमास के नेताओं के लिए सात महीने के युद्ध के दौरान उनके कृत्यों के संबंध में गिरफ्तारी वारंट का अनुरोध कर रहे हैं.

करीम खान ने कहा कि उनका मानना है कि नेतन्याहू, उनके रक्षा मंत्री योव गैलेंट और हमास के तीन नेता – या’ा सिनवार, मोहम्मद दीफ और इस्माइल हनियेह – गाजा पट्टी और इजराइल में युद्ध अपराधों और मानवता के खिलाफ अपराधों के लिए जिम्मेदार हैं.
तीन न्यायाधीशों की एक पीठ अभियोजक के साक्ष्य पर गौर करेगी और यह तय करेगी कि गिरफ्तारी वारंट जारी किया जाए या नहीं और मामले को आगे बढ़ाने की अनुमति दी जाए या नहीं.

इजराइल अदालत का सदस्य नहीं है, इसलिए यदि गिरफ्तारी वारंट जारी किया भी जाता है, तो भी नेतन्याहू और गैलेंट को अभियोजन का तत्काल कोई जोखिम नहीं है. हालांकि, खान के इस अनुरोध से इजराइल और भी अलग-थलग होगा जो गाजा में आगे बढ़ रहा है और गिरफ्तारी के खतरे से इजराइली नेताओं के लिए विदेश यात्रा करना मुश्किल हो सकता है.

इजराइली विदेश मंत्री इजराइल काट्ज. ने कहा कि मुख्य अभियोजक का इजराइल के नेताओं के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी करने का अनुरोध ”एक ऐतिहासिक कलंक है जिसे हमेशा याद रखा जाएगा.” उन्होंने कहा कि वह ऐसी किसी भी कार्रवाई के खिलाफ लड़ने के लिए एक विशेष समिति बनाएंगे और यह सुनिश्चित करने के लिए वैश्विक नेताओं के साथ काम करेंगे कि इजराइली नेताओं पर ऐसे किसी भी वारंट को लागू नहीं किया जाए.

वहीं, विद्रोही संगठन हमास ने अपने नेताओं की गिरफ्तारी की मांग करने के आईसीसी अभियोजक के अनुरोध की निंदा की. पूर्व सैन्य प्रमुख और नेतन्याहू और गैलेंट के साथ इजराइल के युद्ध मंत्रिमंडल के सदस्य बेनी गैंट्ज. ने खान की घोषणा की कड़ी आलोचना की. उन्होंने कहा कि इजराइल “सबसे सख्त” नैतिक नियमों के साथ लड़ता है, अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान करता है और उसकी एक मजबूत न्यायपालिका है जो खुद की जांच करने में सक्षम है. विपक्षी नेता यायर लापिद सहित अन्य इजराइली नेताओं ने भी आईसीसी अभियोजक की निंदा की.

एक बयान में, हमास ने अभियोजक पर “पीड़ित की तुलना जल्लाद” से करने की कोशिश करने का आरोप लगाया. उसने कहा कि उसे “सशस्त्र प्रतिरोध” सहित इजराइली कब्जे का विरोध करने का अधिकार है. इसने इजराइल के केवल दो नेताओं की गिरफ्तारी का अनुरोध करने के लिए अदालत की आलोचना की और कहा कि उसे अन्य इजराइली नेताओं के लिए वारंट की मांग करनी चाहिए.

माना जाता है कि सिनवार और दीफ दोनों गाजा में छिपे हुए हैं क्योंकि इजराइल उनकी तलाश में है. हालांकि, इस्लामी आतंकवादी समूह का सर्वोच्च नेता हनियेह कतर में है और अक्सर पूरे क्षेत्र में यात्रा करता रहता है. खान ने इजराइली कार्रवाइयों के बारे में एक बयान में कहा कि ह्लगाजा की नागरिक आबादी के खिलाफ अन्य हमलों और सामूहिक दंड के साथ ही युद्ध की एक विधि के रूप में भुखमरी का इस्तेमाल करने का असर साफ तौर पर नजर आता है. उन्होंने कहा कि इनमें कुपोषण, निर्जलीकरण, गहन पीड़ा और शिशुओं, अन्य बच्चों और महिलाओं सहित फलस्तीनी आबादी में हुई मौतें भी शामिल हैं.

खान ने सात अक्टूबर की हमास की कार्रवाइयों के बारे में कहा कि उन्होंने आज दायर आवेदनों में लगाए आरोपों में उल्लेखित “इन हमलों के विनाशकारी दृश्य और अपराधों के गहरे प्रभाव को स्वयं देखा है.” उन्होंने कहा, ”जिंदा बचे लोगों के साथ बातचीत में, मैंने सुना कि कैसे एक परिवार के भीतर, एक माता पिता और उनके बच्चे के बीच प्रेम का रिश्ता युद्ध की भेंट चढ़ गया. ये कार्रवाई जवाबदेही की मांग करती है.”